समर्थक/Followers

बुधवार, 16 जनवरी 2019

अली

            
         

                        मन  माही  प्रीत  में  उलझे 
                       ह्रदय  री  बात   बताऊँ    रे 
                       मन   बैरी   बौराया  अली 
                       कैसे   इसे   समझाऊँ    रे ?


                      पी   मिलन   की  हूक  उठी 
                      सुध-बुध   अपनी  गवायी   रे 
                      महल-अटरिया   सूनी  लागे 
                       कैसे   जी    बहलाऊँ   रे  ?

                      सखी-सहेली,झूला-झूले 
                      तन  पे   सौलह  शृंगार  रे 
                      मैं  विरहिणी,विरह  सीचूँ  
                      जगत  प्रीत   बिसरायी   रे 
                     

                      तीज-त्योहार   राह  निहारुँ  
                     साजन  बसे   किस  देश   रे ?
                     चाँद  चढो   गिगनार  अली 
                     कैसे  अरक   लगाऊँ   रे ? 

                                 # अनीता सैनी 


5 टिप्‍पणियां: