बुधवार, 16 जनवरी 2019

अली

                    

                        मन  माही  प्रीत  में  उलझे 
                       ह्रदय  री  बात   बताऊँ    रे 
                       मन   बैरी   बौराया  अली 
                       कैसे   इसे   समझाऊँ    रे ?

                      पी   मिलन   की  हूक  उठी 
                      सुध-बुध   अपनी  गवायी   रे 
                      महल-अटरिया   सूनी  लागे 
                       कैसे   जी    बहलाऊँ   रे  ?

                      सखी-सहेली,झूला-झूले 
                      तन  पे   सौलह  शृंगार  रे 
                      मैं  विरहिणी,विरह  सीचूँ  
                      जगत  प्रीत   बिसरायी   रे 
                     
                      तीज-त्योहार   राह  निहारुँ  
                     साजन  बसे   किस  देश   रे ?
                     चाँद  चढो   गिगनार  अली 
                     कैसे  अरक   लगाऊँ   रे ? 

                                 # अनीता सैनी 


5 टिप्‍पणियां:

अनाम ने कहा…

bahut sunder

Naveen Shrotriya Utkarsh ने कहा…

bahut badhiya

मुकेश ने कहा…

बहुत खूब

Anuradha chauhan ने कहा…

बहुत ही बेहतरीन रचना

अनीता सैनी ने कहा…

सखी बहुत बहुत आभार
आप को बहुत सा सस्नेह
सादर