समर्थक/Followers

बुधवार, 23 जनवरी 2019

शत-शत नमन



                  
                 
      वतन  पर  मिटने  वाला  भारत  का  सपूत  निराला ,
        हाथों में  शंखनाद, कलेजे   में  धधके  ज्वाला |


       दृढ़प्रतिज्ञ   फौलाद  सा सीना,  आजादी का  करे  आह्वान ,
   "तुम मुझे ख़ून दो मैं तुम्हे आज़ादी..."लबों पर इन्ही शब्दों का गान |



       निर्भीक  निडर  परमवीर,जय हिंद का करता  उद्घोष ,
          युवा  सहृदय   सम्राट, आजादी  का  करता   जयघोष |

                                 - अनीता 

24 टिप्‍पणियां:

  1. देशभक्ति से ओतप्रोत और सुभाष चन्द्र बोस को याद कराती प्रेरक रचना हेतु बधाई व शुभकामनाएं आदरणीय अनीता जी।

    जवाब देंहटाएं
  2. देशभक्त आजादी के दीवाने सुभाष चन्द्र बोस की स्मृति में सुन्दर सृजन ।

    जवाब देंहटाएं
  3. बहुत खूब......आदरणीया।
    सादर नमन

    जवाब देंहटाएं
  4. आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल शुक्रवार (25-01-2019) को "जन-गण का हिन्दुस्तान नहीं" (चर्चा अंक-3227) पर भी होगी।
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
    जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    जवाब देंहटाएं
  5. सह्रदय आभार आदरणीय चर्चा में स्थान देने के लिए
    सादर

    जवाब देंहटाएं
  6. ब्लॉग बुलेटिन टीम की और मेरी ओर से आप सब को राष्ट्रीय बालिका दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं|


    ब्लॉग बुलेटिन की दिनांक 24/01/2019 की बुलेटिन, " 24 जनवरी 2019 - राष्ट्रीय बालिका दिवस - ब्लॉग बुलेटिन “ , में आप की पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    जवाब देंहटाएं
  7. आदरणीय शिवम जी सह्रदय आभार आप का ब्लॉग बुलेटिन में मुझे स्थान देने के लिए |
    सादर

    जवाब देंहटाएं
  8. बहुत सुन्दर और प्रभावी रचना...

    जवाब देंहटाएं
  9. सह्रदय आभार आदरणीय
    सादर

    जवाब देंहटाएं
  10. अप्रतिम सखी देशभक्ति से ओतप्रोत सराहनीय रचना।

    जवाब देंहटाएं
  11. ओज से युक्त बहुत ही सार्थक सृजन ! अति सुन्दर !

    जवाब देंहटाएं
  12. आदरणीया साधना जी -सह्रदय आभार आप का
    सादर

    जवाब देंहटाएं
  13. उत्तर
    1. सस्नेह आभार आदरणीय उत्साहवर्धन टिप्णी के लिए
      सादर

      हटाएं