समर्थक/Followers

शुक्रवार, 17 मई 2019

देव दूत पूनम की छाँव



मृगमरीचिका  के  चिर   पथ पर
 सृष्टि  ने   किया  भावों  का  श्रृंगार 

कलपा   सृष्टि  ने  सूने  मन  को
 उपजी  उर  में  करूणा  अपार 
 ममता  मन  में  मचल  उठी
दिया  मानव  को   रूप  साकार 
करुण -काव्य   बहा  अंतर  मन में 
सृजा   सृष्टि  ने  मानवावतार 

शब्द - शब्द  का  सार  पढ़ा
गढ़ा  मन  का  उद्गार 
पुलिकत  मन  के तार हुए 
 मिटा हृदय  का  भार 

उर  से  उर  को  जोड़ती
 उर  के  कोमल  तार 

मानस  चोला   प्रीत  का
स्नेह ,करूणा  का गढ़ा  मोहक  दाँव 
पहन  चोला  निखरा  मनु
 लगे   देव - दूत  पूनम  की  छाँव 

गर्वित   हृदय   सृष्टि   का
 मनु  मन  में  सुन्दर  संस्कार 

मानवता  की  निर्मल  महक 
महका  सृष्टि  का  घर - द्वार 
एक सूत्र  में  बँधा  मानव 
सजा  उर  पर  मुक्ता- हार  

पथ -पथ  पर  प्रीत  खिली
मर्म  जीवन  महका 
उर  के  उस  पार |

- अनीता सैनी 

40 टिप्‍पणियां:

  1. शब्द - शब्द का सार पढ़ा
    गढ़ा मन का उद्गार
    पुलिकत मन के तार हुये
    मिटा हृदय का भार

    अद्भुतं, अद्भुतं। शानदार भावाभिव्यक्ति मैम।

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. जी बहुत बहुत शुक्रिया आप का निश्छल जी
      सादर

      हटाएं
  2. बहुत सुंदर शब्दों का सरगम।

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. तहे दिल से आभार आदरणीय विश्वमोहन जी आप का
      सादर

      हटाएं
  3. आपकी रचना की जितनी तारीफ़ की जाय कम है

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. प्रिय उर्मिला दी जी सस्नेह आभार आप का उत्साहवर्धन समीक्षा हेतु
      सादर

      हटाएं
  4. उत्तर
    1. प्रिय अनुराधा दी जी, तहे दिल से आभार आप का
      सादर

      हटाएं
  5. उत्तर
    1. आदरणीय लोकेश जी सहृदय आभार आप का
      सादर

      हटाएं
  6. सुन्दर और भावप्रणव गीत।

    उत्तर देंहटाएं
  7. आपकी लिखी रचना "पांच लिंकों का आनन्द में" सोमवार मई 20, 2019 को साझा की गई है......... पाँच लिंकों का आनन्द पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. प्रिय यशोदा दी जी, सस्नेह आभार आप का पाँच लिंकों में मेरी रचना को स्थान देने के लिए
      सादर

      हटाएं
  8. वाह बहुत सुन्दर काव्य धारा सुंदर शब्दों का गहन ताना बाना ।

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. प्रिय कुसुम दी जी सस्नेह आभार आप का उत्साहवर्धन समीक्षा हेतु
      सादर

      हटाएं
  9. जीवन के कठिन सवालों पर विमर्श को आमंत्रित करती सुन्दर अभिव्यक्ति।

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. आदरणीय रविन्द्र जी तहे दिल से आभार आप का रचना का गहनता से अध्ययन करने और सुन्दर समीक्षा हेतु
      सादर

      हटाएं
  10. मानवता की निर्मल महक
    महका सृष्टि का घर - द्वार
    एक सूत्र में बँधा मानव
    सजा उर पर मुक्ता- हार
    सुंदर सार्थक सृजन प्रिय अनीता !!!!!!!! कोमल शब्दावली मनमोहक है | सस्नेह --

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. प्रिय रेणु दी जी आप के मन मोहक शब्द जिनका मैं समीक्षा अपने शब्दों में नहीं कर सकती, सस्नेह आभार आप का
      सादर

      हटाएं
  11. जी नमस्ते,
    आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल रविवार (19 -05-2019) को "हिंसा का परिवेश" (चर्चा अंक- 3340) पर भी होगी।

    --
    चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट अक्सर नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
    जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
    आप भी सादर आमंत्रित है
    ....
    अनीता सैनी

    उत्तर देंहटाएं
  12. सुन्दर भावों से सजी रचना

    उत्तर देंहटाएं
  13. मानवता की निर्मल महक
    महका सृष्टि का घर - द्वार
    एक सूत्र में बँधा मानव
    सजा उर पर मुक्ता- हार
    बहुत सुंदर।

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. प्रिय ज्योति बहन तहे दिल से आभार आप का
      सादर

      हटाएं
  14. मानस चोला प्रीत का
    स्नेह ,करूणा का गढ़ा मोहक दाँव
    पहन चोला निखरा मनु
    लगे देव - दूत पूनम की छाँव...बहुत...बहुत...बहुत ही सुदर कविता अनीजा जी

    उत्तर देंहटाएं
  15. बहुत सुन्दर सृजन अनीता जी ।

    उत्तर देंहटाएं
  16. शब्द - शब्द का सार पढ़ा
    गढ़ा मन का उद्गार
    पुलिकत मन के तार हुए
    मिटा हृदय का भार ...
    बेहतरीन लेखन । मन की अभिव्यक्ति सहज और सुग्राह्य तरीके से कैनवास पर उतर आई है। बहुत-बहुत बधाई व शुभकामनाएँ

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. सहृदय आभार आदरणीय पुरुषोत्तम जी
      सादर

      हटाएं
  17. सस्नेह आभार प्रिय सखी कामिनी जी
    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  18. वाह !प्रिय अनिता तुम्हारा ब्लॉग मानो हरीतिमा से आच्छादित उपवन में कोई सफ़ेद चादर बिछाकर आराम कर रहा हो | अत्यंत नयनाभिराम , मनभावन थीम लगायी है तुमने | हार्दिक स्नेह के साथ मेरी शुभकामनायें |

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. सस्नेह आभार दी
      आप ही के कहे अनुसार आप ही के लिए
      सादर

      हटाएं
  19. मानस चोला प्रीत का
    स्नेह ,करूणा का गढ़ा मोहक दाँव
    पहन चोला निखरा मनु
    लगे देव - दूत पूनम की छाँव
    वाह!!!!
    बहुत ही सुन्दर, सार्थक और लाजवाब सृजन

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. सस्नेह आभार प्रिय सुधा दी जी
      तहे दिल से आभार आप का सुन्दर समीक्षा के लिए
      सादर

      हटाएं

आदरणीय/आदरणीया, स्नेहिल प्रतिक्रिया के लिये आपका हार्दिक धन्यवाद,