समर्थक/Followers

बुधवार, 17 जुलाई 2019

बेटी सुख का सार


बेटी  घर संसार में, है सबसे अनमोल।

इसको ऐ नादान तू, सिक्कों में मत तोल।।

--

बेटी को इस जगत में, बेटा कहा पुकार।

जगदम्बा  का  रूप है, बेटी तो उपहार।।

--

बेटी बतलाती हमें, ख़ुशीयों  का सब सार।

बेटी के बिन मनुज का, जीवन है बेकार।।

--

बेटी जैसे शब्द की, महिमा बहुत महान।

बेटी ही सम्मान है, करुणा की पहचान।।

--

बेटी सुख का सार है, बेटी ही शृंगार।

बेटी के कारण बसे, छोटा-सा संसार।।

--

बेटी को मत त्यागिए, ये जीवन का सार।

बेटी ममतारूप है, क़ुदरत का उपहार।


   - अनीता सैनी 

34 टिप्‍पणियां:

  1. बेटियों के प्रति समाज को संवेदनशील होने का संदेश देती अभिव्यक्ति.

    जवाब देंहटाएं
  2. ले-आऊट सैटिंग में जाकर पाठ का फॉण्ट बड़ा कर लीजिए।
    पढ़ने में आँखों पर जोर पड़ता है।

    जवाब देंहटाएं
  3. जी नमस्ते,
    आपकी लिखी रचना गुरुवार १८ जुलाई २०१९ के लिए साझा की गयी है
    पांच लिंकों का आनंद पर...
    आप भी सादर आमंत्रित हैं...धन्यवाद।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. सस्नेह आभार प्रिय श्वेता दी जी
      सादर

      हटाएं
  4. आपकी इस प्रस्तुति का लिंक 18.7.19 को चर्चा मंच पर चर्चा - 3400 में दिया जाएगा

    धन्यवाद

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. सहृदय आभार आदरणीय चर्चा मंच पर स्थान देने के लिये
      सादर

      हटाएं
  5. बेटियां ही घर की रौनक़ होती हैं।
    बहुत सुंदर रचना और भाव
    सादर

    जवाब देंहटाएं
  6. बेटी ही मनुज की सृजनहार है, क्योँकि कल वही माँ भी बनती है।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. बहुत ही उत्कृष्ट विचार आदरणीय,
      बहुत बहुत शुक्रिया आप का
      सादर

      हटाएं
  7. बहुत सुंदर और सत्य ।
    अभिनव सृजन, सटीक यथार्थ।

    जवाब देंहटाएं
  8. बहुत सुंदर और सार्थक सृजन सखी

    जवाब देंहटाएं
  9. बहुत सुन्दर दोहे हैं ... बेटियां तो जीवन का आधार हैं ...

    जवाब देंहटाएं
  10. प्रिय अनीता, बेटी को समर्पित बहुत ही सार्थक
    दोहे!!! 👌👌👌बिटिया के लिए मेरी ओर से

    दुनिया में अनमोल है ये तेरी मुस्कान लाडली,
    तू है मेरे जिगर क टुकड़ा - तू है मेरी जान लाडली!!!!!
    नयनाभिराम सौम्य चित्र के लिए आभार और गुड़िया को प्यार। 💐💐💐💐🌹🌹🌹💐

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. तहे दिल से आभार प्रिय रेणु दी बहुत ही सुन्दर समीक्षा
      अपना स्नेह यूँ ही बनाये रखे
      सादर

      हटाएं
  11. बहुत ही सुन्दर सार्थक दोहे....
    सचमुच बेटी ही सुख का सार है।

    जवाब देंहटाएं