शनिवार, 18 अप्रैल 2020

मरुस्थल में सीपी









22 टिप्‍पणियां:

  1. सादर नमस्कार ,

    आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल रविवार (19 -4 -2020 ) को शब्द-सृजन-१७ " मरुस्थल " (चर्चा अंक-3676) पर भी होगी,
    आप भी सादर आमंत्रित हैं।
    ---
    कामिनी सिन्हा

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. सादर आभार आदरणीय दीदी चर्चा पर स्थान देने हेतु.
      सादर

      हटाएं
  2. मरूभूमि की गहराई और उसकी विशेषताओं के लिए नवीन उपमानों से सजी शब्दावली के प्रयोग से चिन्तन को गहनता और जीवन्तता प्रदान की है आपने .बहुत सुन्दर सृजन अनीता जी .

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. सादर आभार आदरणीय मीना दी मनोबल बढ़ाने हेतु. आपकी समीक्षा से बहुत सँबल मिलता है.
      स्नेह आशीर्वाद बनाये रखे.
      सादर

      हटाएं
  3. अद्भुत सृजन !नव व्यंजनाओं के साथ शानदार शब्द चयन ।
    अभिनव अनुपम।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. सादर आभार आदरणीय कुसुम दीदी जी मनोबल बढ़ाने हेतु. आपके स्नेह की सदैव आभारी रहूँगी.
      स्नेह आशीर्वाद बनाये रखे.
      सादर

      हटाएं
  4. वाह!सखी अनीता जी ,सुंदर सृजन !

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. सादर आभार प्रिय सखी बहुत बहुत आभारी हूँ
      सादर

      हटाएं
  5. बहुत खूब 👌🏻👌🏻👌🏻

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. बहुत बहुत शुक्रिया आदरणीया नितु दी

      हटाएं
  6. उत्तर
    1. सादर आभार आदरणीय सर मनोबल बढ़ाने हेतु.
      सादर

      हटाएं
  7. उत्तर
    1. सादर आभार आदरणीय सर मनोबल बढ़ाने हेतु.
      सादर

      हटाएं
  8. बेहद उत्कृष्ट लेखन ... बहुत बहुत बधाई

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. बहुत बहुत शुक्रिया आदरणीया दीदी मनोबल बढ़ाने हेतु.
      सादर

      हटाएं
  9. उत्तर
    1. बहुत बहुत शुक्रिया आदरणीय दीदी उत्साहवर्धक समीक्षा हेतु.
      सादर

      हटाएं
  10. मरुस्थल का मानवीकरण करती ख़ूबसूरत बिम्बों और प्रतीकों से के साथ भावप्रवणता से ओतप्रोत अभिव्यक्ति।
    प्रस्तुत अभिव्यक्ति पाठक को बचपन के सुखद पलों में ले जाती है हुए गहरे एहसासात के समंदर में डुबो देती है। मौलिक चिंतनयुक्त सृजन रस मर्मज्ञ पाठक को अवश्य प्रभावित करता है।

    जवाब देंहटाएं

anitasaini.poetry@gmail.com