शनिवार, 18 अप्रैल 2020

अश्रुओं से मुरझाया आक


जीवन माँझे-सा उलझा है 
 राहत पाने को अकुलाये ।
 बेचैनी में सिमटी सांसें 
कौतुहल कोहराम मचाये।

दीन-हीन सूखे पतझड़ से 
कैसे पीड़ा को संभाले ।
हंस रूप धारण कर कौए 
पर पीड़ा को नहीं निवाले ।
खेल नियति भी हार चुकी है 
विडंबनाएं चिह्न दिखायें ।।

क्षुधा कुलबुलाती अंतड़ियाँ 
अश्रुओं से मुरझाया आक ।
नन्ही पौध भूख से व्याकुल
निसर्ग हुआ नि:शब्द अवाक। 
दीप करुणा का जले जहाँ में  
गुलमोहर-सा जग खिल जाये ।।

हर मौसम की मार झेलता
मृगतृष्णा से रहे भरमाता  ।
तेज़ घाम में भी खिल जाता 
दुख-तपन से नहीं  घबराता ।
शीतल नीर बहा अब मानव 
लख गुण मानवता हर्षाये।।

©अनीता सैनी  'दीप्ति'

6 टिप्‍पणियां:

  1. शुद्ध हिंदी की सुंदर कविता के लिए आपको शुभकामनाएँ।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. सादर आभार आदरणीय मनोबल बढ़ाने हेतु.
      सादर

      हटाएं
  2. उत्तर
    1. सादर आभार आदरणीय सर मनोबल बढ़ाने हेतु.
      सादर

      हटाएं
  3. दीन-हीन सूखे पतझड़ से
    कैसे पीड़ा को संभाले ।
    हंस रूप धारण कर कौए
    पर पीड़ा को नहीं निवाले ।
    खेल नियति भी हार चुकी है
    विडंबनाएं चिह्न दिखायें ।।
    वाह!!!!
    सुन्दर नवगीत की अनंत बधाई अनीता जी !

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. सादर आभार आदरणीया आपकी समीक्षा हमेशा मेरा उत्साहवर्धन करती है. यों ही स्नेह आशीर्वाद बनाये रखे.
      सादर

      हटाएं

anitasaini.poetry@gmail.com