शनिवार, 18 जुलाई 2020

प्रार्थना


अनासक्त भाव से भर जाऊँ 
हे ! प्रभु ऐसी  भक्ति दो। 
कर्म-कष्ट सहूँ आजीवन बस 
मुझ में इतनी शक्ति दो। 

धूप द्वेष की न तृष्णा की साँझ 
समन्वय की भोर जगाए है। 
आरोह-अवरोह का अंत नहीं 
अंत समय तक मड़राए है। 
मन डिगे न मानवता से मेरा 
हे!प्रभु अंतस में ऐसी अनुरक्ति दो। 
कर्म-कष्ट सहूँ आजीवन बस 
मुझ में इतनी शक्ति दो। 

दैहिक दर्द बढ़े पल-पल 
 किंचित मुझ में क्षोभ न हो। 
 रोम-रोम पीड़ा से भर दो 
 यद्धपि मन में मेरे विक्षोभ न हो। 
 हतभाग्य विचार न छूए मन को 
हे!प्रभु ऐसी शुभ अभिव्यक्ति दो। 
 कर्म-कष्ट सहूँ आजीवन बस 
मुझ में इतनी शक्ति दो। 

©अनीता सैनी 'दीप्ति'

22 टिप्‍पणियां:

  1. आपकी लिखी रचना ब्लॉग "पांच लिंकों का आनन्द" रविवार 19 जुलाई 2020 को साझा की गयी है......... पाँच लिंकों का आनन्द पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. सादर आभार आदरणीय सर पाँच लिंकों पर मेरी रचना को स्थान देने हेतु .
      सादर

      हटाएं
  2. उत्तर
    1. सादर आभार आदरणीय सर मनोबल बढ़ाती प्रतिक्रिया हेतु.
      सादर

      हटाएं
  3. उत्तर
    1. आभारी हूँ सर मनोबल बढ़ाती प्रतिक्रिया हेतु।
      सादर

      हटाएं
  4. बहुत ही प्यारी और गहरी प्रार्थना।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. आभार हूँ अनंता जी उत्साहवर्धन करती प्रतिक्रिया हेतु ।
      सादर

      हटाएं
  5. उत्तर
    1. सादर आभार आदरणीय ज्योति दी मनोबल बढ़ाती प्रतिक्रिया हेतु।
      सादर

      हटाएं
  6. सुंदर अभिव्यक्ति

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. आभार हूँ सर मनोबल बढ़ाती प्रतिक्रिया हेतु ।
      सादर

      हटाएं
  7. अनासक्त भाव से भर जाऊँ
    हे ! प्रभु ऐसी भक्ति दो।
    कर्म-कष्ट सहूँ आजीवन बस
    मुझ में इतनी शक्ति दो।
    बहुत सुन्दर सृजन ...,

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. सादर आभार आदरणीय मीना दी मनोबल बढ़ाती प्रतिक्रिया हेतु।
      सादर

      हटाएं
  8. कर्म-कष्ट सहूँ आजीवन बस
    मुझ में इतनी शक्ति दो।
    बहुत ही सुंदर प्रार्थना अनीता जी

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. सादर आभार आदरणीय कामिनी दीदी मनोबल बढ़ाती प्रतिक्रिया हेतु।
      सादर

      हटाएं
  9. मन डिगे न मानवता से मेरा
    हे!प्रभु अंतस में ऐसी अनुरक्ति दो।
    कर्म-कष्ट सहूँ आजीवन बस
    मुझ में इतनी शक्ति दो।
    वाह!!!!
    सुन्दर कोमल भावों से सजी लाजवाब प्रार्थना।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. सादर आभार आदरणीय सुधा दीदी उत्साहवर्धन करती प्रतिक्रिया हेतु.
      सादर

      हटाएं
  10. दैहिक दर्द बढ़े पल-पल
    किंचित मुझ में क्षोभ न हो।
    रोम-रोम पीड़ा से भर दो
    यद्धपि मन में मेरे विक्षोभ न हो।
    हतभाग्य विचार न छूए मन को
    हे!प्रभु ऐसी शुभ अभिव्यक्ति दो।
    कर्म-कष्ट सहूँ आजीवन बस
    मुझ में इतनी शक्ति दो।
    बहुत ही सुंदर भावों से सजी यह रचना ... ईश वंदना कहूँ तो भी असत्य न होगा।
    बधाई एवम शुभकामनाएं

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. सादर आभार आदरणीय दीदी मनोबल बढ़ाती सुंदर प्रतिक्रिया हेतु .आशीर्वाद बनाए रखे .
      सादर

      हटाएं
  11. सरल लोक कल्याण के मंजुल भाव लिए पावन सी प्रार्थना।
    सस्नेह

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. बहुत बहुत शुक्रिया आप का आदरणीय कुसुम दीदी .
      सादर

      हटाएं

anitasaini.poetry@gmail.com