बुधवार, 24 फ़रवरी 2021

ऋतु वसंत


 वासंती परिधान पहनकर

क्षिति दुल्हन-सी शरमाई है 

शीश मुकुट मंजुल सुमनों का 

मृदुल हास ले मुसकाई है ।।


पोर-पोर शृंगार सुशोभित

ज्यों सुरबाला कोई आई है

मुग्ध घटाएँ बहकीं-बहकीं 

घट भर सुषमा छलकाई है।।


शाख़-शाख़ बजती शहनाई 

सौरभ  गंध उतर आई  है

मंद मलय मगन लहराए

पात झाँझरी झनकाई है ।।


कली कुसुम की बाँध कलंगी

रंग कसूमल भर लाई है 

वन-उपवन सजीं बल्लरियाँ

ऋतु वसंत ज्यों बौराई है। ।


@अनीता सैनी 'दीप्ति'

42 टिप्‍पणियां:

  1. मन प्रसन्न हो जाता है ऐसी मनमोहक रचना पढ़कर..सादर नमन

    जवाब देंहटाएं
  2. बेहद खूबसूरत सृजन सखी

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. आभारी हूँ आदरणीय अनुराधा जी।
      सादर

      हटाएं
  3. बहुत रोचक कविता...
    साधुवाद 🙏

    जवाब देंहटाएं
  4. आपकी लिखी रचना ब्लॉग "पांच लिंकों का आनन्द" ( 2050...क्योंकि वह अपनी प्रजा को खा जाता है... ) पर गुरुवार 25 फ़रवरी 2021 को साझा की गयी है.... पाँच लिंकों का आनन्द पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. आभारी हूँ आदरणीय रविंद्र जी सर पाँच लिंकों पर स्थान देने हेतु।
      सादर

      हटाएं
  5. सादर नमस्कार,
    आपकी प्रविष्टि् की चर्चा शुक्रवार ( 26-02-2021) को
    "कली कुसुम की बांध कलंगी रंग कसुमल भर लाई है" (चर्चा अंक- 3989)
    पर होगी। आप भी सादर आमंत्रित हैं।
    धन्यवाद.


    "मीना भारद्वाज"

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. आभारी हूँ आदरणीय मीना जी चर्चामंच पर स्थान देने हेतु।
      सादर

      हटाएं
  6. बहुत सुंदर अभिव्यक्ति । वासंती प्रकृति के सौन्दर्य से सुशोभित ।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. आभारी हूँ आदरणीय जितेंद्र जी।
      सादर

      हटाएं
  7. सुन्दर प्रस्तुति.

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. सादर आभार आदरणीय ओंकार जी सर।
      सादर

      हटाएं
  8. उत्तर
    1. आभारी हूँ आदरणीय यशवंत जी सर।
      सादर

      हटाएं
  9. बहुत सुन्दर।
    सार्थक शब्दों से बसन्त का बढ़िया चित्रण किया है आपने।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. सादर आभार आदरणीय शास्त्री जी सर।
      सादर

      हटाएं
  10. वाह! प्रकृति का सुंदर मानवीयकरण , सुंदर अलंकारों को धारण किए बंसत की सुगंध लिए सरस अभिव्यक्ति।
    सस्नेह।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. दिल से आभार आदरणीय कुसुम दी जी।
      सादर

      हटाएं
  11. शाख़-शाख़ बजती शहनाई

    सौरभ गंध उतर आई है

    मंद मलय मगन लहराए

    पात झाँझरी झनकाई है ।।

    वाह !! बसंत को बेहद खूबसूरती से दर्शाया है तुमने,स्नेह

    जवाब देंहटाएं
  12. वाह!प्रिय अनीता ,खूबसूरत सृजन ।

    जवाब देंहटाएं
  13. बसन्त आगमन का सुंदर शब्द चित्रण ।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. आभारी हूँ आदरणीय संगीता दी जी।
      सादर

      हटाएं
  14. बहुत सुंदर। कुछ पंक्तियाँ तो बस मंत्रमुग्ध कर गईं जैसे -
    पात झाँझरी झनकाई है ।।
    और
    कली कुसुम की बाँध कलंगी
    रंग कसूमल भर लाई है

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. दिल से आभार आदरणीय मीना दी जी।
      सादर

      हटाएं
  15. वासंती महक से भरी सुंदर रचना

    जवाब देंहटाएं
  16. बहुत सुंदर मोहक कृति

    जवाब देंहटाएं
  17. उत्तर
    1. आभारी हूँ आदरणीय दिलबाग़ जी सर।
      सादर

      हटाएं
  18. वाह क्या कहने, खूबसूरत के साथ साथ प्यारी भी, बहुत सुंदर कविता अनिता जी बधाई हो आपको

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. दिल से आभार आदरणीय ज्योति जी।
      सादर

      हटाएं
  19. बसन्त का बढ़िया चित्रण

    जवाब देंहटाएं
  20. पोर-पोर शृंगार सुशोभित

    ज्यों सुरबाला कोई आई है

    मुग्ध घटाएँ बहकीं-बहकीं

    घट भर सुषमा छलकाई है।।

    बसंत ऋतु की छटा बिखेरता लाजवाब गीत
    वाह!!!!

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. सादर आभार आदरणीय सुधा दी मनोबल बढ़ाने हेतु।
      सादर

      हटाएं

anitasaini.poetry@gmail.com