Powered By Blogger

बुधवार, अगस्त 25

विश्वास के मुट्ठीभर दाने


 विश्वास के मुट्ठीभर दाने 

छिटके हैं समय की रेत पर

गढ़े हैं धैर्य के छोटे-छोटे धोरे 

निष्ठित जल से सींचती है प्रभात।


सूरज के तेज ने टहनियों पर 

  टाँगा है दायित्त्व भार

चाँदनी के झरते रेशमी तार 

चाँद ने गढ़ा सुरक्षा का सुनहरा जाल।


ज़िम्मेदारियों का अँगोछा

कंधों पर डाल

खुरपी से हटाया है 

हवाओं ने  खरपतवार।


थकान के थकते पदचाप

दुपहरी में ढूँढ़ते शीतल छाँव

भावों की बल्लरियों पर 

लताओं ने बिछाया है बिछौना।


धूप दहलीज़ पर बैठ 

दिनभर करती है रखवाली

अँकुरित कोपलों की हथेली में 

 खिलने लगे हैं सुर्ख़ फूल।


@अनीता सैनी 'दीप्ति'

30 टिप्‍पणियां:

  1. सादर नमस्कार,
    आपकी प्रविष्टि् की चर्चा शुक्रवार (27-08-2021) को "अँकुरित कोपलों की हथेली में खिलने लगे हैं सुर्ख़ फूल" (चर्चा अंक- 4169) पर होगी। चर्चा में आप सादर आमंत्रित हैं।
    धन्यवाद सहित।

    "मीना भारद्वाज"

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. आभारी हूँ आदरणीय मीना दी मंच पर स्थान देने हेतु।
      सादर

      हटाएं
  2. बहुत ही सुंदर हर शब्द।
    विश्वास के मुट्ठीभर दानो को संभाल कर रखा बहुत बहुत शुक्रिया।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. आभारी हूँ आपको सृजन पसंद आया।
      सादर

      हटाएं
  3. आपकी लिखी रचना "सांध्य दैनिक मुखरित मौन में" आज गुरुवार 26 अगस्त 2021 शाम 3.00 बजे साझा की गई है.... "सांध्य दैनिक मुखरित मौन में" पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. आभारी हूँ दी दैनिक सांध्य पर स्थान देने हेतु।
      सादर

      हटाएं
  4. मनोभावों का बेहतरीन संगम,
    सुन्दर शब्दावली।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. आभारी हूँ सर आपका आशीर्वाद मिला।
      सादर

      हटाएं
  5. विश्वास के मुट्ठीभर दाने
    छिटके हैं समय की रेत पर
    भावों की बूँदों से सींचते रहना होगा इन्हें समय की रेत का कब हवा संग चलती बने
    और मुट्ठी भर दानों के विश्वास की आशतड़पती रह जाय...
    अद्भुत शब्दसंयोजन...लाजवाब सृजन।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. सच कहा आपने आदरणीय सुधा दी जी विश्वास को प्रेम के पानी से सिंचना होता है। उड़जाए वह विश्वास ही क्या ये छोटे छोटे झोंके अंकुरित करते विश्वास के पौधे को...। विश्लेषण करती प्रतिक्रिया हेतु दिल से अनेकानेक आभार।
      सादर

      हटाएं
  6. सुगठित शब्द संयोजन के साथ बेहतरीन भावाभिव्यक्ति ।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. आभारी हूँ आदरणीय मीना दी आपकी प्रतिक्रिया हमेशा मेरा मनोबल बढ़ाती है।
      सादर

      हटाएं
  7. आशा और सकारात्मक ऊर्जा का संचार करती मनमोहक कृति ।सादर शुभकामनाएं अनीता जी ।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. आभारी हूँ आदरणीय जिज्ञासा दी।
      सराहनासम्पन्न प्रतिक्रिया से सृजन सार्थक हुआ।
      सादर

      हटाएं
  8. बहुत सुंदर! दायित्वों के प्रति समर्पित भावों का अभिनव सृजन।
    बहुत सारगर्भित रचना।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. आभारी हूँ आदरणीय कुसुम दी जी।
      स्नेह आशीर्वाद बनाए रखे।
      सादर

      हटाएं
  9. बहुत सुंदर, अटूट विश्वास को उजागर करती हुई खूबसूरत रचना

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. आभारी हूँ आदरणीय भारती जी।
      सृजन सार्थक हुआ आपकी प्रतिक्रिया से।
      सादर

      हटाएं
  10. बहुत सुन्दर भाव और मनोरम शब्द-चयन !

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. आभारी हूँ सर आपका आशीर्वाद मिला।
      सादर प्रणाम

      हटाएं
  11. बहुत सुन्दर भाव एवं शब्द संयोजन

    जवाब देंहटाएं
  12. विश्वास के दानों को बिखेरती सुंदर रचना ...

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. दिल से आभार दी।
      स्नेह आशीर्वाद बनाए रखे।
      सादर

      हटाएं
  13. behad sundar rachna vishwas ki geharayi bikherti hui.
    Abhar

    जवाब देंहटाएं
  14. अद्भुत शब्द संयोजन के साथ सुंदर रचना, अनिता।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. बहुत बहुत शुक्रिया ज्योति बहन।
      सादर

      हटाएं
  15. उत्तर
    1. आभारी हूँ आदरणीय सर।
      आशीर्वाद बनाए रखे।
      सादर

      हटाएं