समर्थक/Followers

सोमवार, 29 अक्तूबर 2018

व्याकुल मन कि पुकार

                                                

कण-कण  में   गूँज  रही,
व्याकुल  मन  की   पुकार |

हर   पत्थर   सुना   रहा,  
प्रेम   भक्ति   का    सार |

अविरल   बहती   भक्ति,
जग   का   करे   उद्धार |

उर   से    उलझी    पीड़ा, 
सुलझी   कान्हा   के  द्वार |

प्रीत  पथ  पर   झूमे  जीवन, 
छिटका   द्वेष   का   द्वार |

सुख   वैभव  परित्याग  किया,
मिला   प्रेम   भक्ति   का   द्वार |

वक़्त    में    सिमटी   गाथा,
तड़पती    हृदय    के   पार  |

       -अनीता सैनी 

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

आदरणीय/आदरणीया, स्नेहिल प्रतिक्रिया के लिये आपका हार्दिक धन्यवाद,