Powered By Blogger

मंगलवार, सितंबर 25

बटोही

      
अबकी बार  गुज़रो,
उस राह से, 
ज़रा ठहर जाना,  
पीपल की छाँव में, 
तुम पलट जाना,  
उस मिट्टी के ढलान पर,  
बैठी है उम्मीद, 
साथ उस का निभा देना, 
तपती रेत पर डगमगाएँगे क़दम,  
तुम हाथ थाम लेना,  
उसकी ज़मीरी ने किया है, 
ख़्वाहिशों का क़त्ल, 
तुम दीप अरमानों का जला देना, 
ना-काम रही वो राह में,  
ना-उम्मीद तो नहीं, 
बटोही हो तुम राह के, 
मंज़िल तक  पहुँचा देना |

-अनीता सैनी 

7 टिप्‍पणियां:

  1. सादर नमस्कार,
    आपकी प्रविष्टि् की चर्चा रविवार ( 02-05-2021) को
    "कोरोना से खुद बचो, और बचाओ देश।" (चर्चा अंक- 4054)
    पर होगी। चर्चा में आप सादर आमंत्रित हैं।
    धन्यवाद.


    "मीना भारद्वाज"

    जवाब देंहटाएं
  2. उम्मीद का दामन थाम आगे बढ़ते जाना ही ज़िन्दगी है ।

    जवाब देंहटाएं
  3. सराहनीय प्रस्तुति

    जवाब देंहटाएं
  4. इंतज़ार की खूबसूरत पंक्तियाँ।

    जवाब देंहटाएं
  5. उम्मीद पर ही दुनिया टिकी है

    जवाब देंहटाएं
  6. नव ऊर्जा से संचारित अति सुन्दर सृजन । मंजिल खुद चल कर आ जाएगी ।

    जवाब देंहटाएं