समर्थक/Followers

सोमवार, 1 अक्तूबर 2018

क्षितिज



पेड़ों की फुनगी पर  बैठी,
आज सुनहरी शाम,
हर्षित मन, नयन
उम्मीद के द्वार।

विचलित  मन,
तरसती आँखें, बेचैनी-सी 
हुयी  दिल  के  पार,

धीरे-धीरे क़दम बढ़ाती,
मायूसी से करती तक़रार,
पहुँची निशा अपने द्वार ।

अरमानों की बरसी बदरी,
गोधूलि  की बेला  छिटकी,
हुई  आहट  द्वार  पर,
चित्रभानु मिलने पहूँचा,
अब धरा  के  द्वार |

पेड़ों  की फुनगी पर  बैठी,
आज सुनहरी शाम,
हर्षित  मन, नयन
उम्मीद  के  द्वार।

 #अनीता सैनी 

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें