शुक्रवार, 7 फ़रवरी 2020

प्रफुल्लित पदचाप



सोलह बसंत बीते,
 बाँधे चंचलता का साथ,   
आज सुनी ख़ुशियों की, 
प्रफुल्लित पदचाप,  
घर-आँगन में बिखरी यादें,  
महकाती बसंत बयार, 
 छौना मेरा यौवन की, 
दहलीज़ छूने को तैयार 

गगन में फैली चाँदनी-सा,
 शुभ्रतामय यश की लीये बहार, 
भानु-रश्मियों-सी कांति,
सुकून से सँवारे आँचल मेरा हर बार,
 काँटों भरा हो कठिन पथ, 
 दुआओं का मखमली साया मेरा,
दुलराएगा तुम्हें हिम्मत की,
मधुर निर्झर-सी रागिनी सुनाकर, 
स्नेह की बरसाये बरखा बहार 

तपोमय ज्योतिपुंज-सी रोशन,
 हो जीवन की राहें तुम्हारी चहुं ओर,
हृदय में प्यार का सागर ले हिलोरें, 
शिकायत को तरसे जग सारा, 
देश, समाज,परिवार,ममत्त्व मेरा, 
तुम्हारी ओर उम्मीदों का,
 स्वप्निल सुन्दर सँजोते है संसार, 
दामन भरना खुशयों से यही रखना आधार।

©अनीता सैनी 

30 टिप्‍पणियां:

Unchaiyaan.blogpost.in ने कहा…

बहुत खूब प्रफुल्लित पदचाप

Digvijay Agrawal ने कहा…

व्वाह..
सादर..

विभा रानी श्रीवास्तव ने कहा…

हार्दिक बधाई बेटे को जन्मदिन की असीम शुभकामनाओं के संग
बेहद खूबसूरत भावाभिव्यक्ति

पुरुषोत्तम कुमार सिन्हा ने कहा…

बेटे के जन्मदिन की हार्दिक बधाई ।
एक माँ का मातृत्व छलक आया है इस रचना में
सारी दुआएं फलीभूत हों, यही कामना है मेरी।
बेहद खूबसूरत भावाभिव्यक्ति।।।।।

Meena Bhardwaj ने कहा…

गगन में फैली चाँदनी-सा,
शुभ्रतामय यश हो तेरा,
भानु-रश्मियों-सी कांति,
सुकून से सँवारे आँचल मेरा
वात्सल्य भाव से सजी अनुपम रचना.. बेटे के जन्मदिन की हार्दिक शुभकामनाएँँ अनीता जी ।

मुकेश सैनी ने कहा…

बहुत खूब
जन्मदिन की हार्दिक सुभकामनाये

Ravindra Singh Yadav ने कहा…

बेटे के जन्मदिवस पर बधाई एवं शुभकामनाएँ.
एक कवितामय अविस्मरणीय उपहार दिया है एक माँ ने अपने बेटे को ज़माने की चुनौतियों, जवाबदेही और सभ्य नागरिक बनने की ममतामयी शिक्षा कविता में ढली प्रेरणा के साथ. बेटे को दिया अनुपम उपहार है यह रचना.

Meena Bhardwaj ने कहा…

जी नमस्ते,
आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल रविवार (09-02-2020) को "हिन्दी भाषा और अशुद्धिकरण की समस्या" (चर्चा अंक 3606) पर भी होगी।

चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट अक्सर नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।

जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।

आप भी सादर आमंत्रित है

Kamini Sinha ने कहा…

सोलह बसंत बीते,
बाँधे चंचलता का साथ,
आज सुनी ख़ुशियों की,
प्रफुल्लित पदचाप,
घर-आँगन में बिखरी यादें,
महकाती बसंत बयार,
छौना मेरा यौवन की,
दहलीज़ छूने को तैयार

बहुत खूब ,जन्मदिन का शानदार तोहफा, अनीता जी बेटे के जन्मदिन की हार्दिक शुभकामनाएं आपको ,परमात्मा उसके भविष्य को उज्वल बनाये और उसके सपनो को साकार करे।

Sweta sinha ने कहा…

बहुत सुंदर,स्नेहिल और दृढ़ संबल प्रदान करती भावपूर्ण ममत्व से भीगी मीठी सी अभिव्यक्ति।
जन्मदिन की शुभकामनाओं के साथ मेरा असीम स्नेहाशीष
मोहित के लिए,उज्जवल भविष्य की सुनहरी सीढ़ियाँ चढ़े सदा स्वस्थ रहे खुश रहे यही कामना करती हूँ।

शुभा ने कहा…

प्रिय ,सखी बहुत खूब 👌👌माँ के स्नेह से छलकती रचना ।बेटे को जन्मदिन की ढेरों शुभकामनाएँ 💐💐💐💐💐💐💐

yashoda Agrawal ने कहा…

आपकी लिखी रचना ब्लॉग "पांच लिंकों का आनन्द" में सोमवार 10 फरवरी 2020 को साझा की गयी है......... पाँच लिंकों का आनन्द पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!

अनीता सैनी ने कहा…

सादर आभार आदरणीया दीदी

अनीता सैनी ने कहा…

सादर आभार आदरणीय उत्साहवर्धक समीक्षा हेतु.

अनीता सैनी ने कहा…

सादर आभार आदरणीया दीदी जी स्नेह आशीर्वाद बनाये रखे.🌹

अनीता सैनी ने कहा…

सादर आभार आदरणीय उत्साहवर्धक समीक्षा हेतु.
सादर

अनीता सैनी ने कहा…

सादर आभार आदरणीय मीना दीदी जी स्नेह आशीर्वाद बना रहे.
सादर स्नेह

अनीता सैनी ने कहा…

सादर आभार ज़नाब 🌹

अनीता सैनी ने कहा…

सादर आभार आदरणीया मेरी रचना को चर्चामंच पर स्थान देने हेतु.
सादर

अनीता सैनी ने कहा…

सादर आभार आदरणीय सुन्दर सारगर्भित एवं रचना का मर्म स्पष्ट करती समीक्षा हेतु. अपना आशीर्वाद बनाये रखे.
सादर

अनीता सैनी ने कहा…

सादर आभार आदरणीया कामिनी दीदी अपना आशीर्वाद बनाये रखे.
सादर स्नेह

अनीता सैनी ने कहा…

सादर आभार प्रिय श्वेता दीदी सारगर्भित समीक्षा हेतु. स्नेहाशीष बनाये रखे 🌹.
सादर

अनीता सैनी ने कहा…

सादर आभार प्रिय सखी सुन्दर समीक्षा हेतु. आशीर्वाद बनाये रखे🌹
सादर स्नेह

अनीता सैनी ने कहा…

सादर आभार आदरणीय दीदी हमक़दम में मेरी रचना को स्थान देने हेतु.
सादर आभार

मन की वीणा ने कहा…

वाह !!
जन्म दिवस पर अपने छौने के लिए सुंदर अभूतपूर्व काव्य संसार रच दिया, जिसमें ,हौसला है, संबल है, साथ है, स्नेह गंगा है, माँ की आशीषों की ढाल है, दुआ का विस्तृत संसार है और वो सब है जो कोई भी जननी अपने सृजन को दे सकती है ।
बहुत बहुत सुंदर सृजन।
बेटे को जन्म दिवस पर ढेर सी शुभाशीष, शुभकामनाएं।

मन की वीणा ने कहा…

छवि बहुत मोहक है माँ बेटे दोनों की ।🌹❤️

अनीता सैनी ने कहा…

सादर आभार आदरणीया कुसुम दीदी सुन्दर सारगर्भित समीक्षा हेतु. स्नेह आशीष बनाये रखे.
सादर स्नेह

अनीता सैनी ने कहा…

सादर आभार आदरणीया दीदी.

Meena sharma ने कहा…

माँ की ममता और स्नेहभरे आशीष शब्द शब्द से छलक रहे हैं। बहुत प्यारा बेटा है। मेरी ओर से असीम आशीष व मंगलकामनाएँ अनिताजी।

अनीता सैनी ने कहा…

सादर आभार आदरणीया मीना दीदी जी सुन्दर समीक्षा हेतु.
स्नेह आशीर्वाद यों ही बना रहे