शनिवार, 16 मई 2020

नवीन किसलय मुरझाए बंधु



कंधों पर सुकून का अँगोछा 
मग्न आज किस लय में बंधु।  
तरुवर पथ की  सूखी शाख़ 
नवीन किसलय मुरझाए बंधु। 

असहाय की छलकती पीड़ा 
 पेट की भूख आँखों से टपकी। 
संवेदनहीन पूंजीभूत पराग  
अनल-सी जलती देह सारथी। 
समझ पड़ाव सब भाप बने 
कहाँ निशा पुण्य प्रभात बंधु। 

शोभा श्री समन्वय जनगण से 
करुणा की बरसा बौछार। 
मजबूर मज़दूर पुर को दौड़े 
माली थमा पुष्प का एक हार। 
मणि-मनके खनि की शोहरत 
भावुक मन जगा अनुराग बंधु। 

अचरज से छलक उठी निगाहें 
परिमलमय पारिजात पर। 
इंगित अंतस के अश्रुकर 
तरु-शाख़ा पर किसलय सूखे। 
हृदय की पीड़ा फूटी सड़क पर 
बदल न लिबास बारंबार बंधु। 

©अनीता सैनी 

20 टिप्‍पणियां:

  1. असहाय की छलकती पीड़ा
    पेट की भूख आँखों से टपकी। बेहद हृदयस्पर्शी रचना

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. सादर आभार आदरणीया दीदी सुंदर समीक्षा हेतु.
      सादर

      हटाएं
  2. बहुत बढ़िया भावपूर्ण रचना।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. बहुत बहुत शुक्रिया आदरणीय सर सुंदर समीक्षा हेतु.
      सादर

      हटाएं
  3. बहुत ही सुंदर सृजन अनीता जी

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. सादर आभार आदरणीय दीदी सुंदर समीक्षा हेतु.
      सादर

      हटाएं
  4. सही हालात को दिखाती सुन्दर रचना।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. सादर आभार आदरणीय सर सुंदर समीक्षा हेतु.
      सादर

      हटाएं
  5. विनीत भाव से विसंगतियों का शब्दचित्र उकेरना साहित्य की शिल्पगत विशिष्टता है।

    उत्कृष्ट सृजन आत्मा को स्पर्श करते हुए संवेदना के ख़ज़ाने में समृद्धि लाता है।

    वक़्त का सच दर्ज करना साहित्य का दायित्व है ताकि सच जैसे मूल्य पर झूठ-फ़रेब की परत न जम सके।

    सौम्य शब्दावली में अर्थपूर्ण गहन व्यंजना अभिव्यक्ति को सारगर्भित बना देती है भले ही ऐसी रचनाएँ लोकप्रियता के पैमाने पर खरी न उतरें किंतु अपना महत्त्व स्थापित कर देती हैं।

    सुंदर रचना जो प्रभावशाली भाव संप्रेषण करती हुई सार्थक संदेश देती है।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. सादर आभार आदरणीय सर उत्साहवर्धन करती समीक्षा हेतु.
      सादर

      हटाएं
  6. शोभा श्री समन्वय जनगण से
    करुणा की बरसा बौछार।
    मजबूर मज़दूर पुर को दौड़े
    माली थमा पुष्प का एक हार।
    समसामयिक यथार्थ को दर्शाती बहुत ही हृदयस्पर्शी लाजवाब सृजन..।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. सादर आभार आदरणीया दीदी उत्साहवर्धन करती समीक्षा हेतु.
      सादर

      हटाएं
  7. शोभा श्री समन्वय जनगण से
    करुणा की बरसा बौछार।
    मजबूर मज़दूर पुर को दौड़े
    माली थमा पुष्प का एक हार।
    मणि-मनके खनि की शोहरत
    भावुक मन जगा अनुराग बंधु।
    बहुत ही क्रमबद्ध तरीके से शब्दों एवं भावों का समन्वय आपकी इस रचना में है । सादर प्रणाम ।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. बहुत बहुत शुक्रिया आदरणीय सर उत्साहवर्धन करती समीक्षा हेतु.
      सादर

      हटाएं
  8. मैंने आपकी रचना पढ़ी अनीता जी बहुत ही उम्दा रचना है आपकी।
    https://shaayridilse.blogspot.com/2019/12/Good-mornnig-sms.html

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. बहुत बहुत शुक्रिया आदरणीय सर
      सादर

      हटाएं
  9. मजदूरों की पीड़ा को सहज शांदों में लिखा है ...
    एक व्यथा जो पिछले कई महीनों से झेल रहा अहि मजदूर उसको शायद कोई देख और जानने का कोई प्रयास नही कर रहा ...

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. सादर आभार आदरणीय सर मनोबल बढ़ाती सुंदर समीक्षा हेतु.
      सादर

      हटाएं
  10. हृदय की पीड़ा फूटी सड़क पर
    बदल न लिबास बारंबार बंधु।

    पीड़ा की मार्मिक अभिव्यक्ति। सादर

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. सादर आभार आदरणीय सर मनोबल बढ़ाती समीक्षा हेतु.
      सादर

      हटाएं

anitasaini.poetry@gmail.com