मेरे बारे में

मेरी फ़ोटो
झुंझुनूं /जयपुर , राजस्थान , India

गुरुवार, 21 मई 2020

काल की रेत पर मूर्छित हैं पदचाप


सुदूर दिश में दौड़ता अबोध छौना
बादल-सी भरता भोली कुलाँच। 
तपती धूप ने किया है कोई फ़रेब या 
उमसाए सन्नाटे ने लगाई है आँच। 

मरुस्थल पर  हवा ने बिखेरे हैं धोरे 
 काल की रेत पर मूर्छित हैं पदचाप।
गर्दन घुमा देखता बकरियों का समूह
गूँजता गड़रिये का व्याकुल आलाप।

आँधी से उड़ती धूल देख अचकचाए  
पीड़ा पी रहे बालू  के महीन कण-कण।  
बेबस पर यों हुक्म सब्र का बाँध न बना
वेदना के सैलाब में डूबा हुआ है जनगण। 

  संदेह के आत्मघाती तीर तरकश में छोड़
मृगमरीचका-सा भ्रम जाल न बना। 
संयम संतोष सहेज राह में पल के पथिक
तरसती आँखों को यों बदरी न बना।

© अनीता सैनी 

26 टिप्‍पणियां:

  1. सादर नमस्कार,

    आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा शुक्रवार (22-05-2020) को
    "धीरे-धीरे हो रहा, जन-जीवन सामान्य।" (चर्चा अंक-3709)
    पर भी होगी। आप भी
    सादर आमंत्रित है ।
    …...
    "मीना भारद्वाज"

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. सादर आभार आदरणीय मीना दीदी चर्चामंच पर मेरे सृजन को स्थान देने हेतु.
      सादर

      हटाएं
  2. मरुस्थल पर हवा ने बिखेरे हैं धोरे
    काल की रेत पर मूर्छित हैं पदचाप।
    गर्दन घुमा देखता बकरियों का समूह
    गूँजता गड़रिये का व्याकुल आलाप।हृदयस्पर्शी सृजन सखी 👌

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. सादर आभार आदरणीय अनुराधा दीदी मनोबल बढ़ाती प्रतिक्रिया हेतु.
      सादर

      हटाएं
  3. संदेह के आत्मघाती तीर तरकश में छोड़
    मृगमरीचका-सा भ्रम जाल न बना।
    बहुत ही संदर रचना है दीदी जी आपकी । सादर प्रणाम

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. सादर आभार अनुज मनोबल बढ़ाती सुंदर प्रतिक्रिया हेतु.
      सादर

      हटाएं
  4. मुक्त छन्दों में बँधी सुन्दर कविता।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. सादर आभार आदरणीय मार्गदर्शन करने हेतु.
      सादर

      हटाएं
  5. वाह!प्रिय सखी ,बहुत खूबसूरत रचना ।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. सादर आभार आदरणीया दीदी आशीर्वाद बनाए रखे.
      सादर

      हटाएं
  6. वाह ... प्रतीक के माध्यम से अपनी बात बाखूबी कही है आपने ...

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. सादर आभार आदरणीय सर मनोबल बढ़ाती सुंदर प्रतिक्रिया हेतु. आशीर्वाद बनाए रखे.
      सादर

      हटाएं
  7. उत्तर
    1. सादर आभार आदरणीय सर मनोबल बढ़ाती सुंदर प्रतिक्रिया हेतु. आशीर्वाद बनाए रखे.
      सादर

      हटाएं
  8. आदरणीया अनीता जी, उत्कृष्ट सृजन ! ये पंक्तियाँ बहुत सुन्दर हैं :
    बेबस पर यों हुक्म सब्र का बाँध न बना
    वेदना के सैलाब में डूबा हुआ है जनगण।--ब्रजेंद्र नाथ

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. सादर आभार आदरणीय सर मनोबल बढ़ाती सारगर्भित प्रतिक्रिया हेतु. आशीर्वाद बनाए रखे.
      सादर

      हटाएं
  9. पूरी रचना ही बहुत सुंदर है ,अति उत्तम बहना

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. सादर आभार आदरणीया दीदी स्नेह आशीर्वाद बनाए रखे.
      सादर

      हटाएं
  10. आपकी लिखी रचना ब्लॉग "पांच लिंकों का आनन्द" सोमवार 25 मई 2020 को साझा की गयी है......... पाँच लिंकों का आनन्द पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. सादर आभार आदरणीय दीदी पाँच लिंकों पर मेरे सृजन को स्थान देने हेतु.
      सादर

      हटाएं
  11. सुदूर दिश में दौड़ता अबोध छौना
    बादल-सी भरता भोली कुलाँच।
    तपती धूप ने किया है कोई फ़रेब या
    उमसाए सन्नाटे ने लगाई है आँच।

    वाह सुंदर बिंबो से सजी सुंदर व्यंजना..उत्तम सृजन बहना

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. सादर आभार आदरणीया दीदी मनोबल बढ़ाती सुंदर प्रतिक्रिया हेतु. स्नेह आशीर्वाद बनाए रखे.
      सादर

      हटाएं
  12. सुदूर दिश में दौड़ता अबोध छौना
    बादल-सी भरता भोली कुलाँच।
    तपती धूप ने किया है कोई फ़रेब या
    उमसाए सन्नाटे ने लगाई है आँच।
    बहुत खूब प्रिय अनीता। मार्मिक रचना ---- के लिए शुभकामनायें🌹🌹🌹🌹

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. सादर आभार आदरणीया रेणु दीदी मनोबल बढ़ाती सुंदर प्रतिक्रिया हेतु. स्नेह आशीर्वाद बनाए रखे.
      सादर

      हटाएं
  13. बहुत खूब.. ,भावपूर्ण सृजन अनीता जी ,

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. सादर आभार आदरणीया दीदी मनोबल बढ़ती सुंदर प्रतिक्रिया हेतु. स्नेह आशीर्वाद बनाए रखे.
      सादर

      हटाएं

anitasaini.poetry@gmail.com