गुरुवार, 23 जुलाई 2020

बरसात


कल आसमान साफ़ था 
फिर भी दिनभर पानी बरसता रहा।
बरसते पानी ने कहा बरसात नहीं है 
बरसात भिगोती है गलाती नहीं।

 सीली दीवारों पर चुप्पी की छाया थी 
न सूरज निकला न साँझ ढली।
 गरजे बादल चमकती रही बिजली 
न पक्षी चहके न घोंसले से निकले।

दौड़ते पानी से गलियाँ सिकुड़ी 
धुल गए वृक्ष झरते पानी के अनुराग से।
 धारा की शोभा सुशोभित हुई 
नव किसलय के शृंगार से।

मैं एकटक अपलक ताकती रिमझिम फुहार को 
भार बादलों का धरणी सहती रही।
रसोई से आँगन और बाज़ार की दूरी में मैं भीगती 
मुठ्ठीभर जीवन अँजुरी से रिसता रहा।

©अनीता सैनी 'दीप्ति'

30 टिप्‍पणियां:

  1. सादर नमस्कार,
    आपकी प्रविष्टि् की चर्चा शुक्रवार( 24-07-2020) को "घन गरजे चपला चमके" (चर्चा अंक-3772) पर भी होगी। आप भी सादर आमंत्रित है ।

    "मीना भारद्वाज"

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. सादर आभार आदरणीय मीना दी चर्चामंच पर स्थान देने हेतु ।
      सादर

      हटाएं
  2. आ अनीता जी, बहुत सुंदर रचना!--ब्रजेन्द्रनाथ

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. सादर आभार आदरणीय सर मनोबल बढ़ाती प्रतिक्रिया हेतु ।
      सादर

      हटाएं
  3. सीली दीवारों पर चुप्पी की छाया थी
    न सूरज निकला न साँझ ढली।
    गरजे बादल चमकती रही बिजली
    न पक्षी चहके न घोंसले से निकले।... इस कव‍िता से अपना बचपन याद आ गया ...क‍ि ''अम्मा ज़रा देख तो ऊपर चले आ रहे हैं बादल'' वाला .. बहुत धन्यवाद अनीता जी ... वहां बचपन की यादों में वापस ले जाने के ल‍िए

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. सादर आभार आदरणीय अलकनंदा दी मनोबल बढ़ाती सारगर्भित प्रतिक्रिया हेतु।
      सादर

      हटाएं
  4. मैं एकटक अपलक ताकती रिमझिम फुहार को
    भार बादलों का धरणी सहती रही।
    रसोई से आँगन और बाज़ार की दूरी में मैं भीगती
    मुठ्ठीभर जीवन अँजुरी से रिसता रहा।
    बहुत ही सुंदर,मनभावन सृजन अनीता जी

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. सादर आभार कामिनी दीदी मनोबल बढ़ाती प्रतिक्रिया हेतु।
      सादर

      हटाएं
  5. बहुत सुंदर अभिव्यक्ति, अनिता दी।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. आभार हूँ आदरणीय ज्योति बहन मनोबल बढ़ाती सुंदर प्रतिक्रिया हेतु ।
      सादर

      हटाएं
  6. आपकी लिखी रचना ब्लॉग "पांच लिंकों का आनन्द" सोमवार 27 जुलाई 2020 को साझा की गयी है.......http://halchalwith5links.blogspot.com/ पाँच लिंकों का आनन्द पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. सादर आभार आदरणीय यशोदा दीदी पाँच लिंकों पर स्थान देने हेतु ।
      सादर

      हटाएं
  7. दौड़ते पानी से गलियाँ सिकुड़ी
    धुल गए वृक्ष झरते पानी के अनुराग से।
    धारा की शोभा सुशोभित हुई
    नव किसलय के शृंगार से।

    बहुत सुंदर रचना प्रिय अनीता सैनी जी 🙏🍁

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. सादर आभार आदरणीया वर्षा दीदी मनोबल बढ़ाती प्रतिक्रिया हेतु। स्नेह आशीर्वाद बनाए रखे ।
      सादर

      हटाएं
  8. मैं एकटक अपलक ताकती रिमझिम फुहार को
    भार बादलों का धरणी सहती रही।
    रसोई से आँगन और बाज़ार की दूरी में मैं भीगती
    मुठ्ठीभर जीवन अँजुरी से रिसता रहा।
    बहुत सुंदर और भावपूर्ण काव्य चित्र प्रिय अनीता !

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. आभारी हूँ आदरणीय रेणु दीदी मनोबल बढ़ाती प्रतिक्रिया हेतु ।स्नेह आशीर्वाद बनाए रखे।
      सादर

      हटाएं
  9. वाह सखी बेहतरीन सृजन ।बहुत ही बढ़िया।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. सादर आभार सुजाता बहना मनोबल बढ़ाती प्रतिक्रिया हेतु।
      सादर

      हटाएं
  10. वाह!सखी ,क्या बात है ...बहुत ही खूबसूरत भावाभिव्यक्ति ।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. आभारी हूँ आदरणीय दी मनोबल बढ़ाती सुंदर प्रतिक्रिया हेतु ।
      सादर

      हटाएं
  11. सुंदर अभिव्यक्ति

    जवाब देंहटाएं
  12. सुंदर अभिव्यक्ति

    जवाब देंहटाएं
  13. सुंदर अभिव्यक्ति

    जवाब देंहटाएं
  14. भावप्रवण मनमोहक सृजन।

    नवीन बिम्बों और प्रतीकों का प्रयोग रचना की ख़ूबसूरती बढ़ाने में सक्षम है।

    बरसात का अनूठे अंदाज़ का चित्रण।


    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. सादर आभार आदरणीय सर मनोबल बढ़ाती प्रतिक्रिया हेतु।
      सादर

      हटाएं
  15. आदरणीया मैम,
    बहुत ही सुंदर कविता।
    दौड़ते पानी से गलियाँ सिकुड़ी
    धुल गए वृक्ष झरते पानी के अनुराग से।
    धारा की शोभा सुशोभित हुई
    नव किसलय के शृंगार से।
    प्रकृति का बहुत सुंदर वर्णन। इतनी सुंदर रचना के लिए आभार।

    जवाब देंहटाएं
  16. ओ हो! बहुत सुंदर कोमल शब्दों में सुंदर प्रतीकों से सजी अभिनव रचना।
    अप्रतिम।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. आभारी हूँ आदरणीय कुसुम दी आपके आने से संबल मिला।
      मनोबल बढ़ाने हेतु सादर आभार ।
      सादर

      हटाएं

anitasaini.poetry@gmail.com