रविवार, 30 अगस्त 2020

गुज़रे छह महीने



गुज़रे छह महीनों ने पी है अथाह पीड़ा 
 पिछले सौ साल की त्रासदी की।
पीली पड़ चुकी है छरहरी काया इनकी 
हर दिन की सिसकियाँ सजी हैं ज़ुबाँ पर।

तुम्हें देख एक बार फिर हर्षाएँगे ये दिन  
छिपाएँगे आँखों के कोर में खारा पानी।
कभी काजल तो कभी सुरमा लगाएँगे 
बिंदी बर्दास्त न करेगी तुम्हें हर बात बताएगी। 

इनकी ख़ामोशी में तलाशना शब्द तुम 
मोती की चमक नहीं सीपी की वेदना समझना तुम। 
छह महीने देखते ही देखते एक साल बनेगा 
पड़ता-उठता फिर दौड़ता आएगा यह वर्ष 
इसकी फ़रियाद सुनना तुम।

भविष्य बन मिलोगे यायावर की तरह तुम 
कुछ पल बैठोगे बग़ल में अनजान की तरह। 
ये दिन-महीने तुम्हें अपने ज़ख़्म दिखाएँगे
  मरहम लाने का बहाना बनाकर
 उन्मुक्त पवन की तरह बह जाओगे तुम। 

©अनीता सैनी 'दीप्ति'

22 टिप्‍पणियां:

  1. आपकी लिखी रचना ब्लॉग "पांच लिंकों का आनन्द" सोमवार 31 अगस्त 2020 को साझा की गयी है......... पाँच लिंकों का आनन्द पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. सादर आभार आदरणीय यशोदा दी पाँच लिंकों पर स्थान देने हेतु।
      सादर

      हटाएं
  2. निशब्द करती अनुपम रचना जिससे भावों का दरिया मंथर गति से बह रहा है । अति सुन्दर ।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. आभारी हूँ प्रिय मीना दी आपकी प्रतिक्रिया मेरा संबल है।स्नेह आशीर्वाद बनाए रखे।
      सादर

      हटाएं
  3. नमस्ते,
    आपकी इस प्रविष्टि के लिंक की चर्चा सोमवार (31अगस्त 2020) को 'राब्ता का ज़ाबता कहाँ हुआ निहाँ' (चर्चा अंक 3809) पर भी होगी।
    --
    चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्त्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
    जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाए।
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    --
    -रवीन्द्र सिंह यादव


    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. बहुत बहुत शुक्रिया सर चर्चामंच पर स्थान देने हेतु।
      सादर

      हटाएं
  4. बेहतरीन सृजन सखी।बहुत ही सुंदर और सार्थक।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. बहुत बहुत शुक्रिया सुजाता बहन मनोबल बढ़ाती प्रतिक्रिया हेतु।
      सादर

      हटाएं
  5. उत्तर
    1. सादर आभार सर आपकी प्रतिक्रिया मेरा संबल है।
      आशीर्वाद बनाए रखे।
      सादर

      हटाएं
  6. समय ऐसे ही बीत जाएगा ... छः से पूरा साल भी बीत जाएगा ... नए पल नया समय भी आएगा ... और जुड़ जाएगा नया संसार फिर ...

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. आभारी हूँ सर आपकी प्रतिक्रिया मिली।आशीर्वाद बनाए रखे।
      सादर

      हटाएं
  7. बेहतरीन रचना सखी।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. बहुत बहुत शुक्रिया बहना।यों ही साथ बना रहे।
      सादर

      हटाएं
  8. इनकी ख़ामोशी में तलाशना शब्द तुम
    मोती की चमक नहीं सीपी की वेदना समझना तुम।
    छह महीने देखते ही देखते एक साल बनेगा
    पड़ता-उठता फिर दौड़ता आएगा यह वर्ष
    इसकी फ़रियाद सुनना तुम।
    बहुत खूब
    समय तो बीत ही जायेगा।पर जख्म रह जायेंगे...
    बहुत सुन्दर भावपूर्ण सृजन।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. आभारी हूँ आदरणीय सुधा दी आपकी प्रतिक्रिया मेरा संबल है।स्नेह आशीर्वाद बनाए रखे।
      सादर

      हटाएं
  9. भविष्य बन मिलोगे यायावर की तरह तुम
    कुछ पल बैठोगे बग़ल में अनजान की तरह।
    ये दिन-महीने तुम्हें अपने ज़ख़्म दिखाएँगे
    मरहम लाने का बहाना बनाकर
    उन्मुक्त पवन की तरह बह जाओगे तुम।

    बहुत ही सुंदर भावपूर्ण सृजन प्रिय अनीता

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. बहुत बहुत शुक्रिया प्रिय कामिनी दी।स्नेह आशीर्वाद बनाए रखे।
      सादर

      हटाएं
  10. बेहतरीन रचना सखी

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. तहे दिल से आभार आदरणीय दी आप ब्लॉग पर आए अत्यंत हर्ष हुआ।आशीर्वाद बनाए रखे।
      सादर

      हटाएं
  11. कोरोना काल की असह्य वेदना को समाये एक अत्यंत मार्मिक रचना के लिये साधुवाद स्वीकारें...

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. आभारी हूँ आदरणीय सर मनोबल बढ़ाती प्रतिक्रिया हेतु।
      आशीर्वाद बनाए रखे।
      सादर प्रणाम

      हटाएं

anitasaini.poetry@gmail.com