बुधवार, 19 अगस्त 2020

बिछुए


अनिर्वचनीयता
 आदर्श कृति में दृष्टि अंतर्मुखी 
जीवन मूल्यों की धनी 
ज़बान पर सुविचार  रखती 
संस्कार महकते देह पर 
अपेक्षा की कसौटी पर सँवरती 
सतकर्म हाथों में पहन  
मृदुल शब्दों का दान करती 
उलझनें पल्लू में दबा 
आँगन में चिड़िया-सी चहकती 
कोने-कोने से बटोरती प्रीत 
कभी पेट पकड़ भूखी सो जाती 
इच्छा की मौली बाँधते रिश्ते 
मनोकामना बन बरसती 
है संवेदनाओ से भरा कुंभ   
पथरीली डगर पर डग भरती 
संयोग में हर्षाती 
वियोग में विरहणी बन मुरझाती  
अँगुलियों में उलझे  बिछुए-सा 
नित-नित भाग्य अपना बटोरती।

©अनीता सैनी 'दीप्ति'

27 टिप्‍पणियां:

  1. आपकी लिखी रचना "सांध्य दैनिक मुखरित मौन में" आज बुधवार 19 अगस्त 2020 को साझा की गई है.... "सांध्य दैनिक मुखरित मौन में" पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. सादर आभार आदरणीय संध्या दैनिक में स्थान देने हेतु।
      सादर प्रणाम

      हटाएं
  2. पथरीली डगर पर डग भरती
    संयोग में हर्षाती
    वियोग में विरहणी बन मुरझाती
    अँगुलियों में उलझी
    बिछुआ भाग्य अपना बटोरती।
    हृदयस्पर्शी..अति सुन्दर !!

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. सादर आभार मीना दी मनोबल बढ़ाती प्रतिक्रिया हेतु।
      सादर

      हटाएं
  3. नारी के अंतर निहित कर्तव्यों और उनका बोध, स्वयं मन से वहन करना, नदी की अविरल धारा जैसा प्रवाह लिए उत्कृष्ट रचना।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. तहे दिल से आभार प्रिय कुसुम दी सृजन को सुंदर समीक्षा से नवाज़ने हेतु। स्नेह आशीर्वाद बनाए रखे।
      सादर

      हटाएं
  4. बहुत ही सुंदर,कर्त्वयों की डोर से बंधी,चूड़ियों और बिछुओं में उलझी नारी के मनोदशा का सुंदर चित्रण अनीता जी

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. तहे दिल से आभार प्रिय कामिनी दीदी मनोबल बढ़ाती प्रतिक्रिया हेतु।स्नेह आशीर्वाद बनाए रखे।
      सादर

      हटाएं
  5. उत्तर
    1. सादर आभार आदरणीय सर मनोबल बढ़ाती प्रतिक्रिया हेतु।
      सादर प्रणाम

      हटाएं
  6. उत्तर
    1. सादर आभार आदरणीय सर उत्साहवर्धन प्रतिक्रिया हेतु।
      सादर

      हटाएं
  7. आपकी इस प्रस्तुति का लिंक 20.8.2020 को चर्चा मंच पर दिया जाएगा। आपकी उपस्थिति मंच की शोभा बढ़ाएगी|
    धन्यवाद
    दिलबागसिंह विर्क

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. सादर आभार आदरणीय चर्चामंच पर स्थान देने हेतु।
      सादर

      हटाएं
  8. उँगली में उलझे बिछुए सा....
    बहुत चुभते थे बिछुए। मैंने पहनने से मना कर दिया। स्त्री को चुभनेवाली चीजों और बातों का बहिष्कार करना आना चाहिए अब..... कविता का शब्द शिल्प बहुत सुंदर है।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. सही कहा आपने आदरणीय मीना दी।चुभनेवाली चीजों और बातों का बहिष्कार करना आना चाहिए अब..
      स्नेह आशीर्वाद बनाए रखे।
      सादर

      हटाएं
  9. अपने माधुर्य में तमाम धूप-छाँव के ताने-बाने समेटे अद्वितीय कविता.
    अभिनन्दन, अनीता जी.

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. तहे दिल से आभार आदरणीय नूपुरं बहन उत्साहवर्धक प्रतिक्रिया हेतु।
      सादर

      हटाएं
  10. बहुत सुंदर प्रिय अनीता! बिछुवे के माध्यम से नारी की संस्कारगत विवशता को बहुत ही सटीकता से उजागर किया हुई तुमने | सस्नेह

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. तहे दिल से आभार आदरणीय रेणु दी मनोबल बढ़ाती प्रतिक्रिया हेतु।
      स्नेह आशीर्वाद बनाए रखे।
      सादर

      हटाएं
  11. वाह ... बिछुए पर भी इतना मधुर भाव उत्पन किया है आपने ...
    सुन्दर रचना ...

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. सादर आभार आदरणीय सर मनोबल बढ़ाती प्रतिक्रिया हेतु।
      सादर प्रणाम

      हटाएं
  12. कभी पेट पकड़ भूखी सो जाती
    इच्छा की मौली बाँधते रिश्ते
    मनोकामना बन बरसती
    सच में उलझने पल्लू में दबाती...
    बिछुए सी चुभन भरी जिन्दगी जीती
    वाह!!!
    उत्कृष्ट सृजन

    जवाब देंहटाएं

anitasaini.poetry@gmail.com