बुधवार, 16 सितंबर 2020

यादें


विहंग दल की भाँति 
डैने फैलाए लौट आतीं हैं यादें 
वे इंसान नहीं कि 
नहीं लौटे दोबारा 
बंधनों की दहलीज़ 
लाँघ मिलतीं हैं अपनत्व से
पुकारतीं हैं 
अपनों की परछाई बन  
उन्हीं के स्वर में 
नयन गढ़ लेते हैं भावों की 
 गुँथी से जीवित छायाचित्र 
सेवा भाव का यह सागर 
हर लेता है मन की पीड़ा 
तब सुकून का सैलाब 
सवार होता है हर सांस पर 
एक वक़्त के खाने में
 उड़ेल समर्पण 
गाय,कौवे में उन्हें 
तलाशती है अंतर्चेतना   
अँजुरी में भरा पानी 
श्राद्धपक्ष में श्रद्धा के पुष्प बन 
अंतस की नमी से 
आँखों के भिगों देता है कोर
अपनों की याद में।

@अनीता सैनी'दीप्ति'

18 टिप्‍पणियां:

  1. दिल को छू देने वाली कविता। बाकि याद याद बस याद रह जाती है।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. बहुत बहुत शुक्रिया अनुज मनोबल बढ़ाती प्रतिक्रिया हेतु।
      सादर

      हटाएं
  2. अति सुन्दर भाव लिए अनुपम सृजन ।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. सादर आभार आदरणीय दी मनोबल बढ़ाती प्रतिक्रिया हेतु।
      सादर

      हटाएं
  3. आपकी लिखी रचना "सांध्य दैनिक मुखरित मौन में" आज बुधवार 16 सितंबर 2020 को साझा की गई है.... "सांध्य दैनिक मुखरित मौन में" पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. सादर आभार आदरणीय सर सांध्य दैनिक पर स्थान देने हेतु।
      सादर

      हटाएं
  4. उत्तर
    1. बहुत बहुत शुक्रिया सर मनोबल बढ़ाती प्रतिक्रिया हेतु।
      सादर

      हटाएं
  5. आपकी इस प्रस्तुति का लिंक 17.9.2020 को चर्चा मंच पर दिया जाएगा। आपकी उपस्थिति मंच की शोभा बढ़ाएगी|
    धन्यवाद
    दिलबागसिंह विर्क

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. सादर आभार आदरणीय सर चर्चामंच पर स्थान देने हेतु।
      सादर

      हटाएं
  6. प्रिय अनीता, अपने पितृ पुरुषों को अत्यंत आत्मीयता से याद करते हुए बहुत ही शानदार लिखा है तुमने। कदाचित् इसीलिए हर इंसान औलाद की कामना करता है। भावनाओं से भरे मन के इस मर्मस्पर्शी सृजन के लिए क्या लिखूँ?? कितना भावपूर्ण लिखा है
    गाय,कौवे में उन्हें
    तलाशती है अंतर्चेतना
    अँजुरी में भरा पानी
    श्राद्धपक्ष में श्रद्धा के पुष्प बन
    अंतस की नमी से
    आँखों के भिगों देता है कोर
    अपनों की याद में।
    शुभकामनाओ सहित
    🌹🌹💐💐🌹🌹

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. तहे दिल से आभार आदरणीय रेणु दी मनोबल बढ़ाती प्रतिक्रिया हेतु। स्नेह आशीर्वाद बनाए रखे।सादर

      हटाएं
  7. तन्हाईयाँ नहीं होतीं तो इन यादों का क्या होता

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. सादर आभार आदरणीय सर मनोबल बढ़ाती प्रतिक्रिया हेतु।
      सादर

      हटाएं
  8. एक वक़्त के खाने में
    उड़ेल समर्पण
    गाय,कौवे में उन्हें
    तलाशती है अंतर्चेतना
    अँजुरी में भरा पानी
    श्राद्धपक्ष में श्रद्धा के पुष्प बन
    अंतस की नमी से
    आँखों के भिगों देता है कोर
    अपनों की याद में।
    पूर्वजों के श्राद्ध पर श्रद्धा से लिखी बहुत ही हृदयस्पर्शी रचना...।
    वाह!!!

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. तहे दिल से आभार आदरणीय सुधा दी मनोबल बढ़ाती प्रतिक्रिया हेतु।स्नेह आशीर्वाद बनाए रखे।
      सादर

      हटाएं
  9. घ्र पक्तिं दिल को छू जाती है प्रिय अनिता सुन्दर सृजन।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. आभारी हूँ दी मनोबल बढ़ाती प्रतिक्रिया हेतु।
      सादर

      हटाएं

anitasaini.poetry@gmail.com