मंगलवार, 6 अक्तूबर 2020

मनोज्ञ रश्मियाँ


मनोज्ञ रश्मियाँ 
समेटने लगी हैं स्वयं को 
भू पर बिखरे 
अतिशयोक्तिपूर्ण आभामंडल से 
विरक्त हो 
ज़िंदगी की दरारें 
वक़्त बे वक़्त चाहती हैं भरना  
जीवन की ऊहापोह से थक 
आज ख़ामोश हैं  
संकुचाई-सी मुरझाई-सी 
दायित्वबोध का करती भान 
कहती हम पाहुन हैं  
  निशा की गोद में सिमटी-सी 
सांसों में  ढूँढ़ती हैं सुकून 
यायावर रुप में ढला जीवन  
क़दमों का चाहती हैं ठहराव
अनमने मन से  हैं  उदास  
सुबह से शाम तक स्वयं में उलझी
यामिनी से मिलने पर भी  
समेटे शब्दों को मौन में 
चिंताग्रस्त स्वयं से क्रुद्ध 
समय पैंतरों से अनजान 
दुखांत हृदय को थामे पलकों से 
पूछती कौन हैं हम ?

@अनीता सैनी  'दीप्ति'

17 टिप्‍पणियां:

  1. आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल बुधवार (07-10-2020) को   "जीवन है बस पाना-खोना "    (चर्चा अंक - 3847)    पर भी होगी। 
    -- 
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है। 
    -- 
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।  
    सादर...! 
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक' 

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. बहुत बहुत शुक्रिया आदरणीय सर चर्चामंच पर स्थान देने हेतु।

      हटाएं

  2. आपकी लिखी रचना ब्लॉग "पांच लिंकों का आनन्द" बुधवार 6 अक्टूबर 2020 को साझा की गयी है.............. पाँच लिंकों का आनन्द पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!


    जवाब देंहटाएं

  3. आपकी लिखी रचना ब्लॉग "पांच लिंकों का आनन्द" बुधवार 7 अक्टूबर 2020 को साझा की गयी है.............. पाँच लिंकों का आनन्द पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!


    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. बहुत बहुत शुक्रिया आदरणीय पम्मी दी पाँच लिंकों पर स्थान देने हेतु।

      हटाएं
  4. चिंताग्रस्त स्वयं से क्रुद्ध
    समय पैंतरों से अनजान
    दुखांत हृदय को थामे पलकों से
    पूछती कौन हैं हम ?
    हृदयस्पर्शी भावाभिव्यक्ति👌👌

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. दिल से आभारी हूँ मीना दी।आपकी प्रतिक्रिया संबल है मेरा ।सादर

      हटाएं
  5. उत्तर
    1. बहुत बहुत शुक्रिया आदरणीय सर मनोबल बढ़ाने हेतु।

      हटाएं
  6. उत्तर
    1. बहुत बहुत शुक्रिया सर मनोबल बढ़ाती प्रतिक्रिया हेतु।

      हटाएं
  7. लेखनी की आभा बिखर रही है । अति सुंदर ।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. सादर आभार आदरणीया मनोबल बढ़ाने हेतु।

      हटाएं
  8. वक़्त बे वक़्त चाहती हैं भरना
    जीवन की ऊहापोह से थक
    आज ख़ामोश हैं
    संकुचाई-सी मुरझाई-सी
    दायित्वबोध का करती भान
    कहती हम पाहुन हैं
    वाह!!!
    बहुत ही सुन्दर, लाजवाब सृजन।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. दिल से आभार आदरणीय सुधा दी मनोबल बढ़ाती प्रतिक्रिया हेतु।
      सादर

      हटाएं

anitasaini.poetry@gmail.com