Powered By Blogger

सोमवार, 4 जनवरी 2021

यथार्थ

 आज-कल यथार्थ

लोकप्रियता के शिखर पर है 

सभी को यथार्थ बहुत प्रिय है 

जहाँ देखा वहीं

 यथार्थ के ही चर्चे हैं 

अँकुरित विचार हों  या 

कल्पना की उड़ान 

शब्दों की कोंपलों में 

 यथार्थ की ही गंध मिलती है

 मन-मस्तिष्क में उठते 

 भावों की तरंगें हों या

 क़ागज़ पर बिखरे शब्द

 यथार्थ ही कहते हैं

 हर कोई यथार्थ के चंगुलों में

 यथार्थ खाते हैं,यथार्थ पहनते हैं 

 यथार्थ संग सांसें लेते  हैं 

  यथार्थ के आग़ोश में बैठी 

  ज़िंदगियाँ हिपनोटाइज़ हैं 

 जिन्हें समझ पाना बहुत कठिन

 समझा पाना और भी कठिन है।

 

 @अनीता सैनी 'दीप्ति'

17 टिप्‍पणियां:

  1. आज-कल यथार्थ
    लोकप्रियता के शिखर पर है
    सभी को यथार्थ बहुत प्रिय है
    बहुत खूब !! अति सुन्दर!!

    जवाब देंहटाएं
  2. आपकी लेखनी में भी बहुत आग है , मर्म तक सुलग जाता है । साथ ही यथार्थ का आगोश चारों तरफ से घेर लेता है । यूँ ही सुलगाती रहिए ।

    जवाब देंहटाएं
  3. सकारात्मक सोच, सुन्दर रचना।
    --
    नूतन वर्ष 2021 की हार्दिक शुभकामनाएँ।

    जवाब देंहटाएं
  4. सादर नमस्कार ,
    आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल मंगलवार (5-12-20) को "रचनाएँ रचवाती हो"'(चर्चा अंक-3937) पर भी होगी।
    आप भी सादर आमंत्रित है।
    --
    कामिनी सिन्हा

    जवाब देंहटाएं
  5. यथार्थ के आग़ोश में बैठी

    ज़िंदगियाँ हिपनोटाइज़ हैं

    जिन्हें समझ पाना बहुत कठिन

    समझा पाना और भी कठिन है।
    ..अंतर्मन को बेधती पंक्तियाँ..सुंदर रचना

    जवाब देंहटाएं
  6. नव वर्ष मंगलमय हो। सुन्दर सृजन।

    जवाब देंहटाएं
  7. मन-मस्तिष्क में उठते
    भावों की तरंगें हों या
    क़ागज़ पर बिखरे शब्द
    यथार्थ ही कहते हैं
    हर कोई यथार्थ के चंगुलों में
    यथार्थ खाते हैं,यथार्थ पहनते हैं
    यथार्थ संग सांसें लेते हैं

    वर्तमान जीवन के यथार्थ का यथार्थ चित्रण करती लाजवाब कविता...
    हार्दिक बधाई अनीता सैनी जी 🌹🙏🌹

    जवाब देंहटाएं
  8. सीधा कटाक्ष ।
    यथार्थ की आड़ में सचमुच इंद्रजाल बुना जा रहा होता है कितने भ्रमित हो जाते हैं और कई हंस कर यथार्थ की धज्जियाँ उड़ाते हैं ।
    बहुत सुंदर व्यंग्य है।

    जवाब देंहटाएं
  9. ज़िंदगियाँ हिपनोटाइज़ हैं

    जिन्हें समझ पाना बहुत कठिन

    समझा पाना और भी कठिन है। तथाकथित यथार्थ के मुखौटों को उतारती हुई, अति सुन्दर रचना, हमेशा की तरह अपना प्रभाव देर तक के लिए छोड़ जाती है - - साधुवाद आदरणीया अनीता जी - - नमन सह।

    जवाब देंहटाएं
  10. बेहद सशक्त लेखन ....

    जवाब देंहटाएं
  11. यथार्थता का आवरण कठोरता अभिव्यक्त कर रहा है। कोमलतायें, भावनायें शून्य होती जा रही। कविता में यथार्थ की कड़वाहट से चिपके हुयों के लिये सुंदर संदेश है।

    जवाब देंहटाएं
  12. युद्ध एक स्याह अध्याय है

    इंसानियत के लिए

    युद्ध दुःस्वप्न है

    अनाथ शरणार्थियों के लिए।
    बहुत सुन्दर

    जवाब देंहटाएं
  13. हर किसी का अपना अपना यथार्थ है ... वो एक स्वप्न है या सच में अपना अपना यथार्थ है ... ये एक उधेड़बुन है ...
    अच्छी रचना है ...

    जवाब देंहटाएं
  14. यथार्थ को विश्लेषित करती गम्भीर कविता

    सचमुच बहुत अच्छा लिखती हैं आप प्रिय अनीता जी 💐🌹💐

    जवाब देंहटाएं
  15. वाह बेहतरीन सृजन

    जवाब देंहटाएं

anitasaini.poetry@gmail.com