गुरुवार, 15 अप्रैल 2021

मैं और मेरा अक्स



 अँजुरी से छिटके जज़्बात 

मासूम थे बहुत ही मासूम 

पलकों ने उठाया 

वे रात भर भीगते रहे 

ख़ामोशी में सिमटी

लाचारी ओढ़े निर्बल थी मैं। 


तलघर की कोठरी के कोने में

अनेक प्रश्नों को मुठ्ठी में दबाए 

बेचैनियों में सिमटा

 बहुत बेचैन था मेरा अक्स।

 

 आँखों में झिलमिलाती घुटन

 धुएँ-सा  स्वरुप 

 बारम्बार पीने को प्रयासरत 

दरीचे से झाँकती

विफलता की रैन बनी थी मैं। 


निर्बोध प्रश्नों को

बौद्धिकता के तर्क से सुलझाती

असहाय झूलती 

 बरगद की  बरोह का

धरती में धसा स्तम्भ बनी थी मैं। 


@अनीता सैनी 'दीप्ति'

35 टिप्‍पणियां:

  1. सादर नमस्कार,
    आपकी प्रविष्टि् की चर्चा शुक्रवार ( 16-04-2021) को
    "वन में छटा बिखेरते, जैसे फूल शिरीष" (चर्चा अंक- 4038)
    पर होगी। आप भी सादर आमंत्रित हैं।
    धन्यवाद.


    "मीना भारद्वाज"

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. सादर आभार आदरणीय मीना दी चर्चामंच पर स्थान देने हेतु।
      सादर

      हटाएं
  2. उत्तर
    1. बहुत बहुत शुक्रिया आदरणीय सर।
      सादर

      हटाएं
  3. बहुत बेचैन था आपका अक्स! बहुत प्रभावी अभिव्यक्ति है यह अनीता जी आपकी। कविता के निहितार्थ को कुछ और निकट से समझने के लिए इसे पुनः पढूंगा।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. आभारी हूँ सर मनोबल बढ़ाने हेतु।
      सादर

      हटाएं
  4. बेहद प्रभावशाली अभिव्यक्ति, निरीह मन की कातरता को दिखातीं भावभीनी मार्मिक पंक्तियाँ !

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. आभारी हूँ आदरणीय अनीता दी जी।
      स्नेह आशीर्वाद बनाए रखे।
      सादर

      हटाएं
  5. मन को कशमकश को व्यक्त करती बहुत ही सुंदर रचना।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. आभारी हूँ आदरणीय ज्योति बहन।
      स्नेह आशीर्वाद बनाए रखे।
      सादर

      हटाएं
  6. बौद्धिकता के तर्क से सुलझाती

    असहाय झूलती

    बरगद की बरोह का

    धरती में धसा स्तम्भ बनी थी मैं।

    कभी कभी बहुत बेचैनी होते हुए भी स्वयं ही हिम्मत से काम लेना होता है ... सुन्दर भावपूर्ण अभिव्यक्ति .

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. आभारी हूँ आदरणीय संगीता दी जी।
      स्नेह आशीर्वाद बनाए रखे।
      सादर

      हटाएं
  7. नारी की व्यथा कथा का
    बहुत सुन्दर और सार्थक चित्रण।
    --

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. बहुत बहुत शुक्रिया आदरणीय सर।
      आशीर्वाद बनाए रखे।
      सादर

      हटाएं
  8. निर्बोध प्रश्नों को
    बौद्धिकता के तर्क से सुलझाती
    असहाय झूलती
    बरगद की बरोह का
    धरती में धसा स्तम्भ बनी थी मैं।

    मर्मस्पर्शी अभिव्यक्ति अनीता सैनी दीप्ति जी
    बहुत सुंदर 🌹🙏🌹

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. आभारी हूँ आदरणीय शरद दी जी।
      स्नेह आशीर्वाद बनाए रखे।
      सादर

      हटाएं
  9. वे रात भर भीगते रहे

    ख़ामोशी में सिमटी

    लाचारी ओढ़े निर्बल थी मैं। ---सुंदर रचना।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. बहुत बहुत शुक्रिया आदरणीय सर।
      सादर

      हटाएं
  10. बहुत सुंदर भावों भरी अभिव्यक्ति ।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. आभारी हूँ आदरणीय जिज्ञासा दी जी।
      स्नेह आशीर्वाद बनाए रखे।
      सादर

      हटाएं
  11. अंतर्मन के कश्मकश का बेहतरीन चित्रण प्रिय अनीता

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. आभारी हूँ आदरणीय कामिनी दी।
      स्नेह आशीर्वाद बनाए रखे।
      सादर

      हटाएं
  12. मन पर लगी कोई चोट यूं गहराई तक कुदेर गई कि समसी से मसी बह गई।
    हृदय स्पर्शी सृजन
    मन में घुमड़ते भावों को शब्दों में चमत्कारिक रूप से बांधना रहस्यात्मक शैली ।
    अद्भुत लेखन

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. आभारी हूँ आदरणीया कुसुम दी जी आपकी सारगर्भित प्रतिक्रिया संबल है मेरा।स्नेह आशीर्वाद बनाए रखे।
      सादर

      हटाएं
  13. अपने अक्स को ढूँढना, पहचानना और बात करना ...
    गहरे ख्याल की रचना ...

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. आभारी हूँ सर आपकी प्रतिक्रिया प्राप्त हुई।
      सृजन सार्थक हूआ।
      सादर

      हटाएं
  14. बहुत ही बढ़िया कहा है । सुन्दर रचना ।

    जवाब देंहटाएं

anitasaini.poetry@gmail.com