समर्थक/Followers

सोमवार, 28 जनवरी 2019

साँझ




                                      धरा  आलिंग़न  में 
                                    धरी  सुनहरी  साँझ,
                                   धूसर  रंगों   में  डूबी 
                                   गुरुर  से  माथा  चुम,

                                  शांत  लय  से  रखती 
                                        पद - चाप, 
                                    प्रीत  में   इतराती 
                                  करती  प्रेम  आलाप,

                                    समीर   शांत  लय
                                        से टकराती  
                                     प्रीत में बरसाती
                                         सुनहरी धूप,

                               मद्धिम  लय  में    छिपी  
                                     आकांक्षा, 
                             दुल्हन सा  माधुर्य  समेटे 
                             श्यामलता में सिमटी 
                            करती  रंगों  की  बौछार,

                                  बेचैनी ह्रदय में समेटे 
                                 जला   प्रीत  का  दीप
                                 ओढ़ी  चुनड़ी  यौवन की 
                                "पी" मिलन  की  आस,

                                  खिन   मन   झुंझलाया 
                                  दौड़  निशा  आई   द्वार |


                                       -  अनीता 

33 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत ही सुंदर....
    साँझ का वर्णन

    उत्तर देंहटाएं
  2. ब्लॉग बुलेटिन की दिनांक 28/01/2019 की बुलेटिन, " १२० वीं जयंती पर फ़ील्ड मार्शल करिअप्पा को ब्लॉग बुलेटिन का सलाम “ , में आप की पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. सह्रदय आभार आदरणीय शिवम् जी ब्लॉग बुलेटिन में स्थान देने हेतु
      सादर

      हटाएं
  3. उत्तर
    1. आदरणीय लोकेश जी - सह्रदय आभार आप का
      सादर

      हटाएं
  4. मद्धिम लय में छिपी
    आकांक्षा,
    दुल्हन सा माधुर्य समेटे
    श्यामलता में सिमटी
    करती रंगों की बौछार,...
    बहुत-बहुत सुन्दर लिखा है आपने। प्रकृति की माधुर्य का सजीव चित्रण। बेहतरीन ।

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. आदरणीय पुरुषोत्तम जी - रचना की सराहना हेतु आप का तहे दिल से आभार
      सादर

      हटाएं
  5. बहुत ही बेहतरीन रचना सखी

    उत्तर देंहटाएं
  6. आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल बुधवार (30-01-2019) को "वक्त की गति" (चर्चा अंक-3232) पर भी होगी।
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. सह्रदय आभार आदरणीय चर्चा में मुझे स्थान देने के लिए |
      सादर

      हटाएं

  7. आपकी लिखी रचना आज "पांच लिंकों का आनन्द में" बुधवार 30 जनवरी 2019 को साझा की गई है......... http://halchalwith5links.blogspot.in/ पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!


    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. सस्नेह आभार आदरणीया पम्मी जी पांच लिंकों का आनन्द में मुझे स्थान देने के लिए |
      सादर

      हटाएं
  8. वाहह.. बहुत सुंदर सृजन👌

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. आदरणीया श्वेता जी -आप का तहे दिल से आभार
      सादर

      हटाएं
  9. उत्तर
    1. शुक्रिया ज्योति बहन . . ..
      आप को बहुत सा स्नेह |
      सादर

      हटाएं
  10. सांझ का मनोरम वर्णन । अत्यंत सुन्दर रचना ।

    उत्तर देंहटाएं
  11. उत्तर
    1. प्रिय कामिनी जी - शुक्रिया सखी ...
      आभार
      सादर

      हटाएं
  12. वाह बहुत सुन्दर सखी ।
    अप्रतिम रचना।

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. प्रिय सखी कुसुम जी - आप का तहे दिल से आभार, मार्गदर्शन कर आप ने रचना को सम्मान दिया, बहुत सा सस्नेह आप को |
      आभार
      सादर

      हटाएं
  13. उत्तर
    1. प्रिय सुधा जी - सस्नेह आभार आप का
      सादर

      हटाएं

आदरणीय/आदरणीया, स्नेहिल प्रतिक्रिया के लिये आपका हार्दिक धन्यवाद,