रविवार, 12 अगस्त 2018

शिक्षा

प्यार   न   पैसा,
चंद  शब्दों  का  दान
बने  भारत  महान ।

शिक्षा  वह  ज्ञान
आसां  हों  राहें
जीवन  हो  महान।

अनोखा   गहना  शिक्षा,
करे इससे   जो   प्यार
शब्द    मृदुल , 
मन   में  आता  निखार ।

सुन्दर  गहना  शिक्षा,
करे हर बच्चे का श्रृंगार,
व्यवहार  संवरता,
 चमकता  जीवन ,
पनपता   स्वाभिमान।

 -अनीता सैनी 
हिम्मत 

लड़खड़ाएँगें  क़दम, 
क़दमों पर एतवार  मत   करना,
बहुत मिलेंगे  मंज़िल की राह बताने वाले,
 किसी का इंतज़ार मत  करना,
आँख का पानी शिकस्त बता देगा,
 इसे   सीने  में  दफ़्न  कर   देना,
मुस्कुराते रहना  ता-उम्र,
मायूसी  को   पास मत  भटकने  देना,
मिल जाएगा मंज़िल का पता,
शिकस्त को सीने  में पनाह देना |

- अनीता सैनी 

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

anitasaini.poetry@gmail.com