समर्थक/Followers

मंगलवार, 5 फ़रवरी 2019

क्षणिकाएँ


          



                                   || जुनून  ||

                               नाजुक़ हथेली, 
                                सपनों की इमारत,   
                                   जुनून  कहुँ , 
                            मंज़िल को पाने की चाहत |


                                ||   आहट ||

                              दौड़ रही ज़िंदगी, 
                              क़दमों की हुई न  आहट, 
                                कहने को सभी अपने, 
                           अपनेपन की हुई न  सरसराहट |


                                ||   अहाता ||

                          शब्दों  का  मौन   अहाता, 
                             सभी  का  एक  ही  दाम, 
                         सतरंगी  बचपन, धूल  से  सना, 
                              मोहब्बत  का   पैग़ाम |
    

                                   ||   प्रेम ||

                           मूक  सफ़र  का  राही 
                          नज़रों  में मोहब्बत का पैगाम 
                             आशिक़ों  की तपिश में  
                             सुलगता  सुबह - शाम |

                      
                                   || नदी ||

                         हर इंतहान  से  गुज़रती 
                           एकधार  में  अविरल  बहती 
                              सागर चाहत  का लक्ष्य 
                                पाने को मिट जाती |


                                    - अनीता सैनी  
       
        
                 
               

33 टिप्‍पणियां:

  1. ये क्षणिकाएं वृहद व्याख्या स्वरूप हैं । बहुत-बहुत सुंदर अर्थपूर्ण लेखन।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. आदरणीय आप ने रचना की व्याख्या की बहुत ख़ुशी हुई |
      सह्रदय आभार आप का
      सादर

      हटाएं
  2. गागर में सागर ...,सभी क्षणिकाएं लाजवाब हैं अनीता जी ।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. सस्नेह आभार सखी उत्साहवर्धन टिप्णी के लिए |
      सादर

      हटाएं
  3. आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल गुरुवार (07-01-2019) को "प्रणय सप्ताह का आरम्भ" (चर्चा अंक-3240) पर भी होगी।
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    पाश्चात्य प्रणय सप्ताह की
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. बहुत बहुत आभार आदरणीय
      चर्चा में स्थान देने के लिए |
      सादर

      हटाएं
  4. आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल गुरुवार (07-02-2019) को "प्रणय सप्ताह का आरम्भ" (चर्चा अंक-3240) पर भी होगी।
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    पाश्चात्य प्रणय सप्ताह की
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक

    जवाब देंहटाएं
  5. वाह सखी बहुत सुंदर क्षणिकाएं

    जवाब देंहटाएं
  6. बहुत सुन्दर क्षणिकाएं ...

    जवाब देंहटाएं
  7. गहरी और सार्थक क्षणिकाएं।
    वाह।

    जवाब देंहटाएं
  8. बहुत सुंदर सराहनीय क्षणिकायें है..वाह्ह्ह👌

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. सह्रदय आभार आदरणीया श्वेता जी |
      सादर

      हटाएं
  9. लाजवाब क्षणिकाएं...
    बहुत ही सुन्दर सार्थक सारगर्भित..
    वाह!!!

    जवाब देंहटाएं
  10. सुन्दर क्षणिकाएं ...अनीता जी ।

    जवाब देंहटाएं