समर्थक/Followers

बुधवार, 6 फ़रवरी 2019

यादों का झौंका

                 

                          

                                   

                     यादों के झौंके  संग 
                  मंद-मंद मुस्कुराती,आसमां को 
                        एक   टक  निहारती   
                       अतीत  के  पन्नों   को 
                        विचारों  की  कंघी  से 
                        धीरे-धीरे कुरेदती   
                        किन्हीं  ख़्याल में गुम  
                       वजुद  तलाशने  लगी 
                          कभी  तन्हा  रही 
                        आज सोई उम्मीद 
                     फिर  डग  भरने  लगी 
                       थामे  रहती  अँगुली 
                      लड़खड़ाते  थे  क़दम 
                   वो आज सहारा बनने लगा 
                     मुद्दतों  बाद  मुस्कुराई 
                      एक सुकून की साँस 
                  दामन में खिलखिलाने लगी, 
                       घनघोर  अंधरे  में 
                      रफ़्ता-रफ़्ता  महकी 
                     मेहनत  रंग भरने  लगी  
                     गुरुर  से धड़कता सीना 
                   उसके  कंधे  मेरे  कंधों को 
                     लाँघकर  जाने  लगे  
                     नम   हुई  आँखें  आज 
                 वात्सल्य  भाव  से मुस्कुराने लगी |

                          - अनीता सैनी     

26 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत सुंदर प्रस्तुति, अनिता दी।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. जी ज्योति बहन |आप का तहे दिल से सुक्रिया |
      बहुत सा स्नेह |
      सादर

      हटाएं
  2. आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल शुक्रवार (08-02-2019) को "यादों का झरोखा" (चर्चा अंक-3241) पर भी होगी।
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
    जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    जवाब देंहटाएं
  3. गुरुर से धड़कता सीना
    उसके कंधे मेरे कंधों को
    लांघ कर जाने लगें ...वाह क्‍या खूब लिखा है अनीता जी

    जवाब देंहटाएं
  4. वाह बहुत सुन्दर वात्सल्य से भरी कोमल अभिव्यक्ति ।

    जवाब देंहटाएं
  5. उसके कंधे मेरे कंधों को
    लांघ कर जाने लगें
    नम हुई आँखें आज
    वत्सल्य भाव से मुस्कुराने लगी |..... बहुत सुन्दर!

    जवाब देंहटाएं
  6. ममत्व की मर्मस्पर्शी अभिव्यक्ति।

    जवाब देंहटाएं
  7. उसके कंधे मेरे कंधों को
    लांघ कर जाने लगें
    नम हुई आँखें आज
    वत्सल्य भाव से मुस्कुराने लगी |



    बहुत सुन्दर रचना ।

    जवाब देंहटाएं
  8. घनघोर अंधरे में रफ़्ता रफ़्ता महकी मेहनत रंग भरने लगी
    बहुत सुन्दर.... बेहतरीन...

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. सस्नेह आभार सखी उत्साहवर्धन टिप्णी के लिए |
      सादर

      हटाएं
  9. "विचारों की कंघी"

    सुंदर प्रयोग

    जवाब देंहटाएं