Powered By Blogger

मंगलवार, 10 दिसंबर 2019

सर्द हवाएँ



सर्द हवाएँ चली मंगलबेला में,  
 ओस से आँचल सजाने को,   
ललिता-सी लहरायीं निशा संग, 
शीतल चाँदनी छिटकाने को |

समेटे थी यौवन चिरकाल से, 
 खिला कुँज शेफालिका-सा,  
 झूल रही झूला नील गगन में, 
ख़ुशनुमा फुहार बरसाने को |

पुनीत-सी पीर जगा जनमानस में, 
उलीचती अंतरमन के आँगन को,   
ठहरी एक पल ठिठुरते पात पर, 
भूला-बिसरा कल दर्शाने  को |

कथा-व्यथा छिपा हृदय में,   
ज़िक्र ज़ेहन में जब यह दोहराया,  
   परदेशी पाखी लौटे  देश में,   
कुछ कोमल एहसास चुराने को |

नेह-गेह का उमड़ा शीतल झोंका,   
किसलय-सी प्रीत  पनपाने को, 
 लोक की मरजाद ठहरा पलकों पर, 
 थाह शीतलता की जताने को, 
सर्द हवाएँ चली मंगलबेला में,   
 ओस से आँचल सजाने को |

© अनीता सैनी 

15 टिप्‍पणियां:


  1. जी नमस्ते,
    आपकी लिखी रचना ....... ,.....11 दिसंबर 2019 के लिए साझा की गयी है
    पांच लिंकों का आनंद पर...
    आप भी सादर आमंत्रित हैं...धन्यवाद।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. सहृदय आभार आदरणीया पम्मी दीदी जी पाँच लिंकों पर मेरी रचना को स्थान देने के लिये.
      सादर

      हटाएं
  2. काव्यात्मक प्रवाह लिए मन के अहसासों की कोमल अभिव्यक्ति ।
    सुंदर शब्द चयन ।
    अप्रतिम लेखन।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. सादर आभार आदरणीया दीदी जी सुन्दर और सारगर्भित समीक्षा हेतु. आपका स्नेह और सानिध्य यों ही बना रहे.
      सादर

      हटाएं
  3. बहुत ही मनभावनी सरस रचना...।
    कथा-व्यथा छिपा हृदय में,
    ज़िक्र ज़ेहन में जब यह दोहराया,
    परदेशी पाखी लौटे देश में,
    कुछ कोमल एहसास चुराने को |
    वाह!!!

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. सादर आभार आदरणीय सुधा दीदी जी सुन्दर समीक्षा हेतु.
      सादर

      हटाएं
  4. कमाल का लेखन है आपका अनिता जी

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. बहुत बहुत शुक्रिया आदरणीया दीदी जी
      सादर

      हटाएं
  5. सादर नमस्कार,
    आपकी प्रविष्टि् की चर्चा शुक्रवार( 11-06-2021) को "उजाले के लिए रातों में, नन्हा दीप जलता है।।" (चर्चा अंक- 4092) पर होगी। चर्चा में आप सादर आमंत्रित हैं।
    धन्यवाद.


    "मीना भारद्वाज"

    जवाब देंहटाएं
  6. शब्द सौंदर्य की मनभावन छटा!

    जवाब देंहटाएं
  7. अनुपम छटा बिखेरती सुन्दर रचना।

    जवाब देंहटाएं
  8. समेटे थी यौवन चिरकाल से,
    खिला कुँज शेफालिका-सा,
    झूल रही झूला नील गगन में,
    ख़ुशनुमा फुहार बरसाने को |

    लाजबाब सृजन प्रिय अनीता जी

    जवाब देंहटाएं
  9. कथा-व्यथा छिपा हृदय में,
    ज़िक्र ज़ेहन में जब यह दोहराया,
    परदेशी पाखी लौटे देश में,
    कुछ कोमल एहसास चुराने को |

    प्रकृति के निश्छल चमन से रिसते मधु जैसा अहसास सुन्दर मनभावन रचना


    जवाब देंहटाएं
  10. बेहद खूबसूरत रचना सखी 👌

    जवाब देंहटाएं

anitasaini.poetry@gmail.com