शनिवार, 26 सितंबर 2020

वर्तमान की पीर


 कुछ दौड़  कुछ होड़ हारने की  
पेपर पर स्याही उड़ेल गलाने की   
किसानों का निवाला छीनने की थी 
देह दर्द से टूटी थी आसमान की  
शब्दों में पीड़ा पनपी थी धरती के 
प्रसन्नचित जीवन अश्रुपूर्ण लिबास में 
अंतस अधीर  बेचैनी झरता पात थी 
डर देहरी पर बिस्तर बिछाए बैठा  था।

चौराहों  की रौनक छीन ली गई 
गलियों को उनकी हैसियत बताई 
पत्थर पर पैर पल-पल जीवन को 
मारने के लिए मजबूर किया गया 
सफ़ेद चील ने तजरबा के कान छिदवाए 
संस्कार कह रस्मों की माला पहनाई।

2020 का  बर्बरतापूर्ण भयावह रुप 
दीवारों को चुप्पी की चादर ओढ़ाई 
निर्ममता की हदें ढहाता दिमाग़ का पानी 
संतोष को निगलता छद्म की अगुवाई में था 
क़दमों तले वर्तमान को कुचलता साहिर था।

इंसानों के कलेजे को काट तरक़्क़ी को 
तनावमुक्त करने का वादा गढ़ा  
विश्व व्यथित घुटन में देश का समीर 
विकृति मानव के मस्तिष्क पर सवार 
घटनाओं की नहीं यह वर्तमान की पीर थी।

@अनीता सैनी 'दीप्ति'

26 टिप्‍पणियां:

  1. आपकी लिखी रचना ब्लॉग "पांच लिंकों का आनन्द" रविवार 27 सितम्बर 2020 को साझा की गयी है.............. पाँच लिंकों का आनन्द पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. सादर आभार आदरणीय सर पाँच लिंकों पर स्थान देने हेतु।

      हटाएं
  2. आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल रविवार (27-09-2020) को    "स्वच्छ भारत! समृद्ध भारत!!"    (चर्चा अंक-3837)    पर भी होगी। 
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।  
    सादर...! 
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'  
    --

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. सादर आभार आदरणीय सर चर्चामंच पर स्थान देने हेतु।
      सादर

      हटाएं
  3. बहुत खूब
    पहलीबार किसी सैनी का ब्लॉग देखा दीदी।
    मैं भी सैनी हूँ।आशा करता हूँ आपको मेरी रचनाएँ पसन्द आएंगी और आपका फॉलो और कमेंट मिलेगा।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. बहुत बहुत शुक्रिया अनुज मनोबल बढ़ाने हेतु।

      हटाएं
  4. सफ़ेद चील ने तज़रबा के कान छिदवाए
    संस्कार कह रस्मों की माला पहनाई।
    गहन व्यथा है
    वर्तमान चिंतित है

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. बहुत बहुत शुक्रिया आदरणीय सर मनोबल बढ़ाने हेतु।
      सादर

      हटाएं
  5. विकृति मानव के मस्तिष्क पर सवार
    घटनाओं की नहीं यह वर्तमान की पीर थी।
    बहुत खूब प्रिय अनीता ! वर्तमान की पीड़ा की सही पड़ताल की है तुमने | सार्थक रचना के लिए शुभकामनाएं|

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. तहे दिल से आभार आदरणीय रेणु दी मनोबल बढ़ाने हेतु।आपकी प्रतिक्रिया से संबल मिला।

      हटाएं
  6. आदरणीया अनिता सैनी जी, भावों की गहराई अप्रतिम है। ये पंक्तियाँ: डर देहरी पर बिस्तर बिछाए बैठा था।
    क्या बात है!--ब्रजेन्द्रनाथ

    जवाब देंहटाएं
  7. इंसानों के कलेजे को काट तरक़्क़ी को
    तनावमुक्त करने का वादा गढ़ा
    विश्व व्यथित घुटन में देश का समीर
    विकृति मानव के मस्तिष्क पर सवार
    घटनाओं की नहीं यह वर्तमान की पीर थी।
    वर्तमान हालातों का बहुत हु सटीक खाका खींचा है आपने...बहुत सुन्दर सार्थक..
    वाह!!!

    जवाब देंहटाएं
  8. अप्रतिम भावाभिव्यक्ति ।

    जवाब देंहटाएं
  9. 2020 का बर्बरतापूर्ण भयावह रुप
    दीवारों को चुप्पी की चादर ओढ़ाई
    इस वर्ष की भयावहता और लोगों की मजबूरियों को अपने में समेटे गहन भावों की रचना।

    जवाब देंहटाएं

anitasaini.poetry@gmail.com