गुरुवार, 24 दिसंबर 2020

कुरजां और प्रेम

पाहुन कुरजां

स्मृतियाँ छोड़ ज़ेहन में 

उड़ जाते हैं  सुने नभ में


प्रभात के मोती सज़ा 

दूधिया पँखों पर

 पी संदेश है सुनाता 

 

मन-विथियों में विचरता 

खुली आँखों में स्वप्न लिए 

 कुहासे में है खो जाता 

 

  होठों पर चुप्पी लिए 

भावना से  छूना 

आना और चले जाना।


@अनीता सैनी 'दीप्ति'


32 टिप्‍पणियां:

  1. सादर नमस्कार,
    आपकी प्रविष्टि् की चर्चा शुक्रवार ( 25-12-2020) को "पन्थ अनोखा बतलाया" (चर्चा अंक- 3926) पर होगी। आप भी सादर आमंत्रित है।
    धन्यवाद.

    "मीना भारद्वाज"

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. बहुत बहुत शुक्रिया आदरणीय मीना दी चर्चामंच पर स्थान देने हेतु।
      सादर

      हटाएं
  2. सुंदर,मनोहारी कविता..।

    जवाब देंहटाएं
  3. प्रेम का सुन्दर छुअन ...

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. दिल से आभार प्रिय दी मोह जाती है आपकी प्रतिक्रिया।
      सादर

      हटाएं
  4. सुंदर मुग्ध करता काव्य! आना और चले जाना एक आशा की किरण छोड़ कर कि पी तक संदेशा पहुंचायेगी कुरजां
    और फिर इंतजार ।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. दिल से आभार प्रिय कुसुम दी आपकी साहित्यक प्रतिक्रिया बड़ी अनमोल होती है।सृजन का मर्म स्पष्ट करने हेतु हार्दिक आभार।
      सादर

      हटाएं
  5. बहुत सुंदर भावपूर्ण रचना...

    जवाब देंहटाएं
  6. बहुत सुंदर अभिव्यक्ति

    जवाब देंहटाएं
  7. बहुत सुंदर रचना, अनिता दी।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. बहुत बहुत शुक्रिया प्रिय ज्योति बहन।
      सादर

      हटाएं
  8. सूने नभ। वीथियों। सुन्दर सृजन।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. बहुत बहुत शुक्रिया आदरणीय सर।
      सादर

      हटाएं
  9. स्मृतियाँ जागने के बाद और कुछ कहाँ रह जाता है ...
    बस वो स्मृतियाँ बस ...

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. बहुत बहुत शुक्रिया आदरणीय सर।
      सादर

      हटाएं
  10. बहुत खूब ! आने वाला समय आपके और आपके समस्त परिवार के लिए मंगलमात हो !

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. बहुत बहुत शुक्रिया आदरणीय सर।
      सादर

      हटाएं
  11. मन-विथियों में विचरता

    खुली आँखों में स्वप्न लिए

    कुहासे में है खो जाता
    बहुत सुन्दर मनभावन सृजन।
    वाह!!!

    जवाब देंहटाएं
  12. कोमल पंखों पर विचरती सी रचना | बहुत सुन्दर |

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. बहुत बहुत शुक्रिया आदरणीय सर।
      सादर

      हटाएं
  13. राजस्थानी होने के नाते मैं कुरजां से संबंधित भावों को भलीभांति अनुभव कर सकता हूँ । बहुत सुंदर और भावपूर्ण अभिव्यक्ति है यह अनीता जी । अभिनंदन ।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. बहुत बहुत शुक्रिया आदरणीय सर।
      सादर

      हटाएं

anitasaini.poetry@gmail.com