Powered By Blogger

गुरुवार, 22 अप्रैल 2021

एक यथार्थ


नाद भरा उड़ता जीवन देख 

ठहरी है निर्बोध भोर की चंचलता

दुपहरी में उघती उसकती इच्छाएँ 

उम्मीद का दीप जलाए बैठी साँझ 

शून्य में विलीन एहसास के ठहरे हैं पदचाप।


यकायक जीवन चक्र भी शिथिल होता गया 

एक अदृश्य शक्ति पैर फैलाने को आतुर है 

समय की परिधि से फिसलती परछाइयाँ 

पाँवों को  जकड़े तटस्थ लाचारी 

याचनाओं को परे धकेलती-सी दिखी।


काया पर धधकते फफोले कंपित स्वर  

किसकी छाया ? कौन है ?

सभी प्रश्न तो अब गौण हैं

मेघों का मानसरोवर से पानी लेने जाना 

कपासी बादलों में ढलकर आना भी गौण है।


चिंघाड़ते हाथियों के स्वर में मदद की गुहार

व्याघ्रता से विचलित बस एक दौड़ है 

गौरया की घबराहट में आत्मरक्षा की पुकार 

हरी टहनियों का तड़प-तड़पकर जल जाना 

कपकपाती सांसों का अधीर हो स्वतः ठहर जाना।


एक लोटा  पानी इंद्र देव का लुढ़काना

झूठ का शीतल फोहा फफोलों पर लगाना

दूधिया चाँदनी में तारों का जमी पर उतरना

निर्ममता के चक्रव्यूह में मानव को उलझा देखा 

जलती देह का जमी पर छोड़ चले जाना

कविता की कोपलें बन बिखरा एक यथार्थ है।


@अनीता सैनी 'दीप्ति'

40 टिप्‍पणियां:

  1. सादर नमस्कार,
    आपकी प्रविष्टि् की चर्चा शुक्रवार ( 23-04-2021) को
    "टोकरी भरकर गुलाबी फूल लाऊँगा" (चर्चा अंक- 4045)
    पर होगी। आप भी सादर आमंत्रित हैं।
    धन्यवाद.


    "मीना भारद्वाज"

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. सादर आभार आदरणीय मीना दी चर्चामंच पर स्थान देने हेतु।
      सादर

      हटाएं
  2. जी नमस्ते,
    आपकी लिखी रचना शुक्रवार २३ अप्रैल २०२१ के लिए साझा की गयी है
    पांच लिंकों का आनंद पर...
    आप भी सादर आमंत्रित हैं।
    सादर
    धन्यवाद।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. आभारी हूँ पाँच लिंकों पर स्थान देने हेतु।
      सादर

      हटाएं
  3. बहुत सुंदर प्रस्तुति

    जवाब देंहटाएं
  4. यथार्थ के विविध रूप एवं बिम्ब प्रस्तुत किए हैं अनीता जी आपने इस कविता में। इन्हें समेकित रूप में देखने पर स्थिति की गम्भीरता एवं भयावहता का पता लगता है।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. सारगर्भित प्रतिक्रिया हेतु सादर आभार आदरणीय सर।
      सादर

      हटाएं
  5. बहुत सुंदर रचना सखी

    जवाब देंहटाएं
  6. बेहतरीन रचना सखी

    जवाब देंहटाएं
  7. हृदयस्पर्शी सृजन अनीता ,परमात्मा ये विपदा हर ले बस यही प्रार्थना है,

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. बहुत बहुत शुक्रिया आदरणीय कामिनी दी।
      सादर

      हटाएं
  8. आदरणीया मैम, आज के दुखद यथार्थ को दर्शाती एक बहुत ही सुंदर और भावपूर्ण रचना। आशा है कि भगवान जी जल्दी ही हम सब की पुकार सुन कर इस महामारी का नाश कर दें और जीवन पुनः हँसता-खेलता हो जाए । हृदय से अत्यंत आभार इस सुंदर रचना के लिए व आपको प्रणाम।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. आभारी हूँ प्रिय अनंता जी सारगर्भित प्रतिक्रिया हेतु।
      सादर

      हटाएं
  9. ओह , बहुत मार्मिक चित्रण ... पढ़ते हुए जैसे रोंगटे खड़े हो गए ...

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. आभारी हूँ आदरणीय संगीता दी जी।
      सादर

      हटाएं
  10. हृदय स्पर्शी चित्रण,
    यथार्थ पर फिसलती संवेदनशील लेखनी।
    सस्नेह।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. आभारी हूँ आदरणीय कुसुम दी जी।
      सादर

      हटाएं
  11. चिंघाड़ते हाथियों के स्वर में मदद की गुहार
    व्याघ्रता से विचलित बस एक दौड़ है
    गौरया की घबराहट में आत्मरक्षा की पुकार
    हरी टहनियों का तड़प-तड़पकर जल जाना
    कपकपाती सांसों का अधीर हो स्वतः ठहर जाना।
    बहुत ही सटीक मार्मिक एवं सामयिक रचना
    भयावहता ऐसी फैली है कि हर जगह त्राहि माम् त्राहि माम् ही गूँज रहा है।

    जवाब देंहटाएं
  12. इस रचना में एक यथार्थ नहीं कई यथार्थ हैं।
    जी बहतु ही बढ़िया लिखा है आपने।

    जवाब देंहटाएं
  13. बहुत मार्मिक चित्रण, प्रभावशाली लेखन

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. आभारी हूँ आदरणीय अनीता दी।
      स्नेह आशीर्वाद बनाए रखे।
      सादर

      हटाएं
  14. हाहाकारी सृजन जो अवाक करता है ... अति संवेदनशील ।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. आभारी हूँ आदरणीय दी।
      आशीर्वाद बनाए रखे।
      सादर

      हटाएं
  15. एक लोटा पानी इंद्र देव का लुढ़काना

    झूठ का शीतल फोहा फफोलों पर लगाना

    दूधिया चाँदनी में तारों का जमी पर उतरना

    निर्ममता के चक्रव्यूह में मानव को उलझा देखा

    जलती देह का जमी पर छोड़ चले जाना

    कविता की कोपलें बन बिखरा एक यथार्थ है।.. वाह अनीता जी,आपकी रचना अंतर्मन को झकझोर गई,बहुत बड़ी चोट यथार्थ के ऊपर ।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. आभारी हूँ आदरणीय जिज्ञासा दी जी।
      स्नेह आशीर्वाद बनाए रखे।
      सादर

      हटाएं
  16. उत्तर
    1. बहुत बहुत शुक्रिया आदरणीय सर।
      सादर

      हटाएं
  17. यथार्थ आज बहुत कडवा हो चुका है ... फिर भी इन सब को सरचना भी यथार्थ है ... हूबहू रच देना बस ...

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. दिल से आभार आदरणीय सर।
      आशीर्वाद बनाए रखे।
      सादर

      हटाएं
  18. उत्तर
    1. बहुत बहुत शुक्रिया आदरणीय सर।
      आशीर्वाद बनाए रखे।
      सादर

      हटाएं
  19. दिल को छूती बहुत सुंदर रचना, अनिता। ईश्वर करे आप जल्द ठीक हो...

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. दिल से आभार प्रिय ज्योति बहन।
      आपका स्नेह आशीर्वाद यों ही मिलता रहे।
      सादर

      हटाएं

anitasaini.poetry@gmail.com