समर्थक/Followers

शुक्रवार, 14 सितंबर 2018

सायली छंद




सभ्यता
मायूस हुई
दहलीज़  पर बैठी
तोड़  रही
 दम ।


परिवार
बिखर  रहें
फैल  गया  अकेलापन
बेचैन  मनुष्य
सिमटा ।


बेख़बर
बिलखता  इंसान
इंसानियत  खो  रहा
बन  बैठा
हैवान  ।


ख़्वाब
दिल  के
आँखों  में  सँजोये
काजल  से
छुपाये ।


शब्दों
में   संजोई
बिखर  रही  ज़िंदगी
फिर  एक
हुई।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें