समर्थक/Followers

शुक्रवार, 5 अक्तूबर 2018

ख़ामोशी

                                                                    

                              ज़ख़्म  दिल  का  आँखें  बरस  गयीं, 
                           मोहब्बत रही वो मेरी, क्यों ख़ामोश रही ?

                              जज़्बात दिल की दीवारों   में दफ़्न  हुए, 
                         आँखों में तैरते सपने  एक पल में ओझल हुए, 

                                 सहम गयीं   हवाएँ  यही  क़ुसूर  रहा,
                            ख़ौफ़  बेरहम आँधियों का न यक़ीन हुआ, 

                             वो  पैग़ाम -ए -उल्फ़त सीने में समा गये ,
                                    नहीं लौटोगे  तुम  यही बात रुला गयी 

                                              - अनीता सैनी        

1 टिप्पणी: