Powered By Blogger

सोमवार, 5 जुलाई 2021

संघर्ष





 अमृत कलश से छलकती 

अमृत्व के लिबास में लिपटी 

किसी की धड़कन तो किसी की

सांसें बन जीवन में डोलती 

 धरा के नयनों से उतर 

 कपोलों से लुढ़ककर बोलती 

मिट्टी के कण-कण को बींधती

जिजीविषा की कहानी गढ़ती

साँवली सूरत सन्नाटा ओढ़े

थकती न हारती मंद-मंद मुस्कुराती

चराचर के बीचोबीच पालथी मार बैठी 

ऐसे ही एक संघर्ष की बूँद को

 मैंने अमृतपान करते देखा।


@अनीता सैनी 'दीप्ति'

22 टिप्‍पणियां:

  1. थकती न हारती मंद-मंद मुस्कुराती
    जीवन के बीचोबीच पालथी मार बैठी
    ऐसे ही एक संघर्ष की बूँद को
    मैंने अमृतपान करते देखा।
    वाह !! बहुत खूब !! जीजिविषा का संचार करती मनोहारी कृति ।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. आभारी हूँ आदरणीया मीना दी आपकी प्रतिक्रिया से सृजन को सार्थकता मिली।स्नेह आशीर्वाद बनाए रखे।
      सादर

      हटाएं
  2. वाह!
    बहुत सुंदर सृजन।
    एक बूंद का संघर्ष और उत्कर्ष दोनों को सुंदरता से सहेजा है आपने छोटी सी रचना में बहुत कुछ कह दिया।
    अभिनव अभिव्यक्ति।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. आभारी हूँ प्रिय कुसुम दी सारगर्भित हेतु।
      आपकी प्रतिक्रिया मेरा संबल है।
      स्नेह आशीर्वाद बनाए रखे।
      सादर

      हटाएं
  3. बूँद की विजय गाथा, बहुत सुन्दर!!

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. आभारी हूँ आदरणीया अनुपमा मैम मनोबल बढ़ाने हेतु।
      स्नेह आशीर्वाद बनाए रखे।
      सादर

      हटाएं
  4. उत्तर
    1. आभारी हूँ आदरणीय आलोक सर जी।
      आशीर्वाद बनाए रखे।
      सादर

      हटाएं
  5. उत्तर
    1. आभारी हूँ आदरणीया अनुराधा जी।
      सादर

      हटाएं
  6. उत्तर
    1. आभारी हूँ आदरणीय जोशी जी सर।
      आशीर्वाद बनाए रखे।
      सादर

      हटाएं
  7. थकती न हारती मंद-मंद मुस्कुराती
    चराचर के बीचोबीच पालथी मार बैठी
    ऐसे ही एक संघर्ष की बूँद को
    मैंने अमृतपान करते देखा।
    संघर्ष की बूँद का अमृतपान... मेहनत का फल
    बहुत ही लाजवाब सृजन
    वाह!!!

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. आभारी हूँ आदरणीया सुधा जी आपकी प्रतिक्रिया से सृजन सार्थक हुआ।
      स्नेह बनाए रखे।
      सादर

      हटाएं
  8. सादर नमस्कार,
    आपकी प्रविष्टि् की चर्चा शुक्रवार (09-07-2021) को "सावन की है छटा निराली" (चर्चा अंक- 4120) पर होगी। चर्चा में आप सादर आमंत्रित हैं।
    धन्यवाद सहित।

    "मीना भारद्वाज"

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. सादर नमस्कार आदरणीय मीना दी।
      दिल से आभार मुझे मंच पर स्थान देने हेतु।
      सादर

      हटाएं
  9. मैंने अमृतपान करते देखा।
    संघर्ष की बूँद का अमृतपान..
    लाजबाब सृजन.... प्रिय अनीता

    जवाब देंहटाएं
  10. संघर्ष की बूंद का अमृतपान
    और फिर जब कोई संघर्ष कर तो फल मीठा ही होगा ।
    सुंदर रचना

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. आभारी हूँ आदरणीया संगीता स्वरुप जी उत्साहवर्धन करती प्रतिक्रिया हेतु।
      सादर

      हटाएं
  11. संघर्ष की बूँद को मैंने अमृतपान करते देखा''
    क्या बात है, अति सुंदर

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. आभारी हूँ सर मनोबल बढ़ाने हेतु।
      सादर

      हटाएं

anitasaini.poetry@gmail.com